सरदारपुर। सरदारपुर थाना क्षेत्र के ग्राम पटलावादिया में बीती  रात्रि 25 से 30 हथियार बदमाशों ने धावा बोलकर ग्रामीणों  के साथ चोरी व लूट की वारदात को अंजाम दिया है। बदमाशो का सामना करने के दौरान ग्रामीणों को चोट भी आए। वही इस मामले को लेकर आज ग्राम पटलावदीया के ग्रामीण आज धार में जिला पुलिस अधिक्षक आदित्य प्रताप सिंह से मिले एवं पुलिस पर आरोप लगाया गया की पुलिस घटना की जानकारी मिलने के तीन से चार घंटे बाद पहुंची। जो शराब के नशे में थी और बदमाशों का पीछा करने के बजाए ग्रामीणों से ही शराब के नसे में बदसलुकी की गई। वही इन सब आरोपो को सरदारपुर टीआई द्वारा निराधार बताए गए है।
नगदी व मवेशी ले गए बदमाश - 
जानकारी के अनुसार कल 26 सितम्बर की रात्रि लगभग 11 बजे अचानक से 25 से 30 हथियार बंद बदमाशो ने चोरी, लूट एवं डकैती के इरादे से धावा बोलकर घटना को अंजाम दिया। घटना में रतन पिता हजारी गौड़, हजारी पिता भाणाजी गौड़ एवं मांगीलाल पिता भग्गाजी चावड़ा को गंभीर चोट आई है। बदमशो ने इनके घर पर लुट एवं चोरी करते हुए मांगीलाल के यहां से बदमाशो ने 1 गाय व 2 गाय के बच्चें तथा रतन के यहां से नगदी 12 हजार रूपये तथा मोबाईल सहीत अन्य सामान ले गए।
पुलिस ने नही की सहायता, एसपी को सौपा आवेदन -
ग्रामीणों ने सरदारपुर पुलिस पर आरोप लगाते हुए जिला पुलिस अधिक्षक से मिले एवं उन्हें घटना की जानकारी देकर एक आवेदन सौंपा गया। जिसमें ग्रामीणों ने बताया घटना के तुंरत बाद ही डाॅयल 100 को सुचना दी गई। लेकिन थाने से महज 5 किलोमीटर की दुरी पर घटना स्थल होने के बाद भी पुलिस रात्रि करिबन 3ः30 बजे बाद गांव में आई। डायल 100 एवं अन्य दो पुलिस की गाड़ी गांव आई। हमने उन्हें पुरी घटना बताई लेकिन उनके द्वारा कोई सहायता नही की गई। ग्रामीणों ने आवेदन में बताया की डायल 100 में मौजुद पुलिसकर्मीयों द्वारा शराब पी हुई थी तथा गाड़ी के अंदर शराब की बोतल भी मिली। जिसका विडीयों भी ग्रामीणों ने एसपी को सौंपा है। ग्रामीणों ने यह भी आरोप लगाए की घटना के बाद गांव में दहशत का मामला था लेकिन पुलिस ने घायल लोगो को अस्पताल पहुंचाने की बजाए एवं चोरो को पकड़ने के बजाए हमशे ही शराब के नशे में बदसलुकी की गई।

आरोप निराधार, प्लानिंग के तहत बनाया वीडियो-
ग्रामीणों ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए मामले की शिकायत जिला पुलिस अधिक्षक को की गई। जिस पर उन्होंने जांच का आश्वासन दिया है। वही इस मामले में सरदारपुर थाना प्रभारी संजय रावत ने बताया की ग्रामीणों द्वारा लगाए गए आरोप निराधार है। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंचे थे। पुलिसकर्मी शराब के नशे में नही थे। जो वीडियो वायरल किया जा रहा है वो प्लानिंग के तहत बनाया गया है। डाॅयल 100 में शराब की बोतल रखकर वीडियो बनाया गया है। 

Post a Comment

 
Top