नई दिल्ली। झारखंड को आज सबसे बड़ी सौगात मिलने वाली है। करीब 19 साल के लंबे इंतजार के बाद झारखंड विधानसभा किराए के मकान से निकलकर आज अपनी खुद की बिल्डिंग में शिफ्ट हो जाएगी। ये विधानसभा देश की पहली ऐसी विधानसभा होगी जो पूरी तरह से पेपरलेस होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज इस विधानसभा भवन का उद्घाटन करेंगे। अलग राज्‍य बनने के करीब 19 साल बाद किराये के विधानसभा भवन से झारखंड को मुक्ति मिल रही है।  झारखंड विधानसभा की नई बिल्डिंग एक तरफ जहां झारखंड की संस्‍कृति की सतरंगी झलक को संजोए हुए है वहीं दूसरी ओर ये बिल्डिंग बेहद हाईटेक और तमाम अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस है। ये देश की पहली ऐसी विधानसभा है जो पूरी तरह से पेपरलेस है। तमाम कार्यवाही के लिए यहां कंप्यूटर और टैब का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके लिए हरेक विधायक की सीट पर टैब लगाया गया है और किसी भी विधायक को अपनी बात कहने और वोटिंग के लिए पेपर की जरूरत नहीं पड़ेगी। झारखंड विधानसभा में फिलहाल 81 सदस्य हैं लेकिन भविष्य को ध्यान में रखते हुए यहां एक सौ बाइस सदस्यों के बैठने की व्यवस्था की गई है। झारखंड विधानसभा की नई इमारत में जल संचयन और ऊर्जा संरक्षण की मुकम्‍मल व्‍यवस्‍था की गई है। इस इमारत में सौर ऊर्जा से बिजली की आपूर्ति की जाएगी। यहां विधानसभा की कार्यवाही को सुचारू रूप से चलाने के लिए छोटी से छोटी बातों का ध्यान रखा गया है। खास बात ये है कि इमारत की डिजायन में झारंखड की आत्मा जल-जंगल और जमीन का भी पूरा ध्यान रखा गया है।

Post a Comment

 
Top