पेटलावद आयुषी, राठौर। इन दिनों राजनीतिक विज्ञापनों की मानों बाढ़ आ गई है, नेताओ द्वारा विकास के मुद्दों पर ध्यान देने के बजाए, विज्ञापनों में छाने का खुमार छाया हुआ है। नागरिको की कमाई को नगर परिषद द्वारा किस तरह विज्ञापन के माध्यम से पानी मे बहाया जा रहा, इसका उदाहरण वर्तमान में आपको नगर परिषद पेटलावद में देखने को मिल जाएगा। यहां अन्य सुविधाओं को सुचारू करने के लिए नगर परिषद विफल रही है, लेकिन बड़े बड़े विज्ञापन, होर्डिंग, पेम्पलेट, पत्रिका आदि छपवाकर वाह वाही लूटने में जरुर सफल हुई है।

स्वच्छता के नाम पर भी लूटी वाहवाही - स्वछता अभियान के तहत यहाँ नगर परिषद ने लाखों रुपये पानी की तरह बहाये लेकिन वह सिर्फ विज्ञापनों और बड़े होर्डिंग्स तक ही सीमित रहे। आज भी नगर परिषद स्वच्छता में विफल रही है। नगर के कई इलाकों में गंदगी का साम्राज्य फैला है।  नगर की शान बस स्टैंड को माना जाता है जिसे देख कर नगर की सुंदरता को पहचाना जाता है, जो वर्षों से बीमारी का घर बना हुआ है।  यहां गन्दगी पसरी पड़ी है। इसके साथ ही कई जगह नालिया जाम है।

इधर भाजपा सांसद को भूले -
नगर परिषद द्वारा जारी स्वच्छ भारत मिशन के तहत एक पेम्प्लेट (पुस्तक) में भाजपा समर्थित नगर परिषद अध्यक्ष ने विज्ञापन में भाजपा सांसद गुमानसिंह डामर का फोटो लगाना भी उचित नही समझा। उक्त पेम्पलेट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री कमलनाथ, विधायक वालसिंह मेड़ा, नगर परिषद अध्यक्ष मनोहर भटेवरा, सीएमओ राठौर, उपाध्यक्ष माया सतोगिया, विधायक प्रितिनिधि जीवन ठाकुर सहित पार्षदों के फोटो लगाए गए, किन्तु सांसद को दरकिनार किया गया।  इसकी जानकारी भाजपा कार्यकर्ताओं को लगी तो उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी भड़ास निकाली और यह तक कह डाला कि भाजपा की परिषद में भाजपा सांसद का फ़ोटो देने में परिषद को शर्म महसूस हो रही है। परिषद शर्म करो भाजपा से ही जीते हो। इस विवाद के बाद परिषद ने दूसरा विज्ञापन जारी किया जिसमें सांसद गुमानसिंह का फोटो लगाया हुआ है। पूर्व में जारी किए गये विज्ञापन से नाराज कार्यकर्ताओं में काफी आक्रोश देखा गया और उन्होंने यहां तक कह डाला कि शायद सत्ता परिवर्तन होने से परिषद अध्यक्ष भाजपा में कम ही रुचि दिखा रहे है। क्योंकि इन्हें अधिकतर के कार्यक्रमों में कांग्रेसी नेताओं के साथ देखा जा रहा है। भाजपा समर्थक पार्षदों का कहना है कि स्वच्छ भारत पत्रिका के प्रकाशन की जानकारी दी गई थी, किंतु पत्रिका को लेकर जनप्रतिनिधियों के फ़ोटो के साथ रूबरू नहीं कराया गया था। पत्रिका को लेकर सभी भाजपा कार्यकर्ताओं ने निंदा व्यक्त की है।

Post a Comment

 
Top