पेटलावद। हर बार की तरह इस बार भी बालिकाओं और युवतिओं ने अपने अपने घरों में मिट्टी से बनी गणेशजी  प्रतिमा की स्थापना करने की ठान ली है। इसी के चलते नगर सहित आसपास क्षेत्रो में, यहां तक की विद्यालयों में भी मिट्टी से भगवान गणेश की प्रतिमाएं बनाई जा रही है।  मिट्टी के बनाएं गणेश की 2 सितम्बर को धूमधाम से स्थापना की जाएगी। पेटलावद नगर की बालिका वेदिका गवली 11 वर्ष ने लगातार दूसरे वर्ष भी मिट्टी के श्रीगणेश जी बनाये है। वेदिका ने बताया कि श्री गणेश जी उत्सव को लेकर मेरे द्वारा मिट्टी के श्री गणेशजी बनाये गए है, जिसमे मुझे 5 घण्टे का समय लगा है। वही बालिका नेहा कटारा, दीपिका कुशवाह ने भी श्री गणेशोत्सव को लेकर मिट्टी की आकर्षित प्रतिमा बनाई है, जिन्हें वह श्रीगणेश चतुर्थी के दिन अपने घर मे स्थापित करेगी। नेहा ने बताया कि जल प्रुदुषित होने से बचाने के लिए हमने मिट्टी के श्री गणेश जी बनाये है, ताकि पर्यावरण शुद्ध रहे।  आपको बता दे कि इस बार बाजार में प्लास्टर ऑफ पेरिस से बनी प्रतिमाओं का बाजार थोड़ा ठंडा पड़ा हुआ है। क्योकि अब अधिकतर घरो में मिट्टी के श्री गणेश जी स्थापित किये जाते है। साथ ही श्री गणेश चतुर्थी के चलते नगर के मुख्य मार्ग पर प्लास्टर ऑफ पेरिस से बने श्री गणेश जी की प्रतिमाओं का बाजार सज गया है, लेकिन पर्यावरण के प्रति लोगो मे आई जागरूकता के चलते इस बार लोगों का रूझान प्लास्टर ऑफ पेरिस से बनी प्रतिमाएं खरीदने में कम ही रुचि दिखाई दे रही है। श्री गणेशोत्सव को लेकर खासकर बच्चों में खासा उत्साह नजर आ रहा है। स्कूली बच्चों सहित अन्य ने भी मिट्टी की गणेश प्रतिमा बनाकर पर्यावरण को सहेजने का एक सुंदर प्रयास किये जा रहे है।

Post a Comment

 
Top