भोपाल। ओडिशा कोस्ट पर बने कम दबाव के क्षेत्र और मानसून ट्रफ के सागर से होकर गुजरने से प्रदेश के अनेक स्थानों पर बरसात का दौर जारी है। इसी क्रम में शनिवार को शाम करीब 4:30 बजे राजधानी भोपाल में झमाझम बरसात हुई। शहर में करीब आधे घंटे में 4 सेमी. पानी गिरा। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक प्रदेश में अनेक स्थानों पर रुकरुक कर बौछारें पड़ने का सिलसिला अभी जारी रहने की संभावना है। इसी क्रम में रविवार-सोमवार को जबलपुर, भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद संभाग में कहीं-कहीं भारी बरसात भी हो सकती है। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक अभी तक प्रदेश में सामान्य से 19 प्रतिशत अधिक बरसात हो चुकी है। शनिवार सुबह 8:30 से शाम 5:30 बजे तक भोपाल (शहर) में 41.4, भोपाल (बैरागढ़) में 7.0, ग्वालियर में 54.3, मलाजखंड में 45.0, रीवा में 6, बैतूल और पचमढ़ी में 3, उमरिया और गुना में 1 मिमी. बरसात हुई। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी उदय सरवटे ने बताया कि एक कम दबाव का क्षेत्र ओडिशा तट के उत्तरी भाग पर अभी भी बना हुआ है। साथ ही इस सिस्टम के ऊपर एक चक्रवाती हवा का घेरा बना हुआ है। मानसून द्रोणिका (ट्रफ) बीकानेर, जयपुर, सागर, पेंड्रा रोड, झारसुगड़ा से होते हुए ओडिशा तट पर बने कम दबाव के क्षेत्र तक बनी हुई है। साथ ही प्रदेश के दक्षिणी क्षेत्र पर पूर्वी-पश्चिमी हवा का टकराव हो रहा है। इन सिस्टम के कारण राजधानी सहित पूरे प्रदेश में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ रुक-रुक कर तेज बौछारें पड़ने का सिलसिला जारी है। सरवटे के मुताबिक बरसात का यह क्रम अभी रुक-रुक कर जारी रहने की संभावना है। साथ ही कम दबाव के क्षेत्र के आगे बढ़ने पर बरसात की गतिविधियों में कुछ और तेजी आने का भी अनुमान है।

Post a Comment

 
Top