भोपाल। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने आज मंत्रालय परिसर में अति दुर्लभ प्रजाति का शल्य कर्णी पौधा लगाया। हरा भोपाल शीतल-भोपाल अभियान में मंत्रालय में बनाए गए अदिती वन में संकटापन्न एवं दुर्लभ प्रजातियों के 32 में से 30 प्रजातियों का पौध-रोपण मुख्यमंत्री के साथ मंत्रिमंडल के सदस्यों ने भी किया। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर आयोजित प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि बढ़ते हुए प्रदूषण की रोकथाम और पारम्परिक चिकित्सा पद्धति को जीवित रखने के लिए जंगलों को बचाना जरूरी है। श्री कमल नाथ ने कहा कि हम अपनी भावी पीढ़ी के लिए सुरक्षित और सुंदर प्रदेश का निर्माण करें। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ द्वारा लगाया गया संकटापन्न प्रजाति का शल्यकर्णी पौधा महाभारत कालीन है। यह पौधा उस समय युद्ध और अन्य दुर्घटना में घायल लोगों के घाव भरने में उपयोग किया जाता था। यह प्रजाति आज पूर्णत: विलुप्त होने की कगार पर है। अदिती वन में संकटापन्न प्रजाति के 6 पौधों में दहिमन, शल्य कर्णी, मेंदा, सोनपाठा, गरूड़ वृक्ष एवं बीजा हैं। इस मौके पर खतरे और संवेदनशील प्रजाति के पौधों में कुंभी, केंकड़, पाडर, कुल्लू, रोहिना, शीशम, धवा, सलई, भिलमा, गधा पलाश, धनकट, कुचला, अंजन, मोखा, तिन्सा, खरहर, भेड़ार, अचार, कुसुम, भुडकुट, हल्दू, खटाम्बा और बड़ प्रजाति के पौधों का रोपण किया गया।  विधानसभा उपाध्यक्ष सुश्री हिना कांवरे, संस्कृति मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ, लोक निर्माण मंत्री श्री सज्जन सिंह वर्मा, जल-संसाधन मंत्री श्री हुकुम सिंह कराड़ा, सामान्य प्रशासन मंत्री डॉ. गोविंद सिंह, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास मंत्री श्री आरिफ अकील, पशुपालन मंत्री श्री लाखन सिंह यादव, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, राजस्व मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत, महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी, जनजातीय कार्य मंत्री श्री ओमकार सिंह मरकाम, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, वन मंत्री श्री उमंग सिंघार, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री श्री पी.सी. शर्मा, खाद्य-नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री सचिन सुभाष यादव ने भी पौध-रोपण किया।

Post a Comment

 
Top