भोपाल। कांग्रेस सरकार में मची कलह के बीच भारतीय जनता पार्टी ने एलान किया कि वह 11 सिंतबर को प्रदेश में सड़क पर उतरकर 'घंटानाद" आंदोलन करेगी। पार्टी का यह प्रदेशव्यापी आंदोलन स्व. जयप्रकाश नारायण के आंदोलन 'घंटानाद" की तर्ज पर होगा, जिसमें कार्यकर्ता घंटा और ढोल-मंजीरे लेकर कलेक्ट्रेट का घेराव करेंगे। हर जिला मुख्यालय पर यह आंदोलन होगा। यह घोषणा भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने मंगलवार को प्रदेश कार्यालय में मीडिया से चर्चा करते हुए की। इसे पार्टी ने 'मध्यप्रदेश बचाओ- कांग्रेस भगाओ" स्लोगन दिया है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि कमलनाथ सरकार का जनता के हितों से कोई वास्ता नहीं है, यह सरकार सिर्फ पैसों की बंदरबांट के आधार पर चल रही है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी यह पहले दिन से कहती रही है कि इस सरकार में कई मुख्यमंत्री हैं और अब यही बात सरकार के मंत्री भी कह रहे हैं।
जिस सरकार में अनेकों मुख्यमंत्री हों और जिसके मंत्री तथा विधायक अपने हितों को जनता के हितों से ऊपर मानते हों, ऐसी सरकार जनता और प्रदेश का भला नहीं कर सकती। इसीलिए प्रदेश में किसान बदहाल हैं, कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गई है। भ्रष्टाचार चरम पर है। सड़कें खस्ताहाल हो गई हैं। प्रदेश सरकार भाजपा कार्यकर्ताओं पर झूठे मुकदमे लाद रही है। सिंह बोले कि जिस तरह से स्व. जयप्रकाश जी ने घंटानाद किया था, उसी तरह भाजपा भी घंटे बजाकर कुंभकर्णी नींद में सो रही प्रदेश सरकार को जगाएगी। इसके लिए 11 सितंबर को पूरे प्रदेश में घंटानाद आंदोलन शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कलेक्टर सरकार के प्रतिनिधि होते हैं, इसलिए आंदोलन के अंतर्गत प्रत्येक जिला मुख्यालय पर भाजपा कार्यकर्ता और नेता कलेक्ट्रेट का घेराव करेंगे।
प्रदेश स्तरीय नेतागण जिलों में जाकर आंदोलन का नेतृत्व करेंगे। इस दौरान सरकार और प्रशासन को नींद से जगाने के लिए कार्यकर्ता घंटे-ढोल और झांझ-मंजीरे बजाते हुए कलेक्टर कार्यालय पहुंचेंगे। उन्होंने कहा कि यह आंदोलन सरकार के विरोध की एक बानगी है। विरोध दर्ज कराने का सिलसिला आगे भी जारी रहेगा।

Post a Comment

 
Top