विनोद सिर्वी, धुलेट। इंदौर अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग 47 धुलेट के पास संकरी जर्जर पुलिया की वजह से आए दिन जाम लगना आम बात हो गई। संकरी पुलिया पर गड्ढे होने की वजह से वाहन धीरे निकलते हैं। जिससे फूल के दोनों साइड वाहनों की लंबी कतार लग जाती है। एक बार में एक ही वाहन निकल पाता है। एक साथ दो वाहन नहीं निकल पाते कई बार वाहन आमने सामने बैठ जाते हैं और वाहन चालक अपना वाहन पीछे नहीं करते जिससे लंबा जाम लग जाता है। राष्ट्रीय राजमार्ग में चौधरी ढाबे से दत्तीगांव तथा माछलिया घाट वाला क्षेत्र लगभग 16 किलोमीटर अभी टू लाइन ही बना है। इस 16 किलोमीटर टू लेन के रखरखाव का ठेका एमएमएस कंपनी ने ले रखा है। परंतु ठेकेदार की लापरवाही से राहगीर परेशान हो रहे हैं। कई जगह गहरे गड्ढे हो गए हैं। जिससे वाहन चालक परेशान हो रहे हैं। गड्ढों को भरने के लिए रोड के साइड की मिट्टी को खोदकर गड्ढों में डाली जा रही है। जिससे धूल के गुब्बारे उड़ रहे हैं। राहगीरों का निकलना मुश्किल हो गया है। कई जगह रोड की साइड भी ठीक से नहीं भरी जहां भरी वहां कई बड़े-बड़े पत्थर तथा कई जगह मिट्टी डाली गई।
ग्रामीण संतोष पंवार ने बताया कि ठेकेदार द्वारा रोड की साइड भरने में मिट्टी वाली मुरम का उपयोग किया गया जिससे रोड के साइड में कीचड़ हो गया है। गुरुवार को अहमदाबाद से इंदौर जा रहे हैं। ट्रेलर कीचड़ की वजह से फिसल गया और रोड से नीचे उतर गया। बड़ी मशक्कत के बाद शुक्रवार को सुबह  क्रेन  की मदद से ट्रेलर को रोड पर लाया गया। टु लेन पर  ट्रेन लगाने में वाहनों की लंबी कतारें दोनों और लग गई जिससे करीब 2 घंटे तक लंबा जाम लगा रहा। जाम सुबह 7:00 बजे से 9:00 बजे तक चेतना ढाबे से पटेल ढाबे तक 2 किलोमीटर लंबा जाम लग गया।ग्रामीण पारस सिर्वी ने बताया कि ठेकेदार द्वारा गुणवत्ता हिन काम किया जा रहा।रोड की साइड में कई जगह तो मिट्टी वाला मुरम तथा कई जगह बड़े-बड़े पत्थर डाले जा रहे। नाही साइड भरने के बाद उस पर रोलर चलाया। रोड पर पत्थर बिखरे पड़े हैं। जिससे राहगीरों का निकलना मुश्किल हो गया है। कई जगह तो रहवासियों ने अपने घरों के सामने से बड़े-बड़े पत्थर हटाए। वही संकरी जर्जर पुलिया पर अत्यधिक बारिश की वजह से साइट की मिट्टी बह गई है। यदि जल्द से ही साइड नहीं भरी गई तो बड़ी दुर्घटना हो सकती है।

मामले में एमएमएस कंपनी के इंजीनियर श्री पांडे ने बताया कि हमारा काम निरंतर चल रहा है। गड्ढों में गिट्टी डाली थी। परंतु हर बार गिट्टी निकल कर वापस गड्ढा हो जाता है। इसलिए गिट्टी डालकर ऊपर मिट्टी डाली ताकि वह ठीक से सेट हो जाए। वही सरदारपुर एसडीएम महेश बडोले ने बताया कि मामले आपने संज्ञान में डाला है मैं ठेकेदार से चर्चा करता हूं।

Post a Comment

 
Top