रायपुर। प्रदेश के कृषि और जल संसाधन मंत्री श्री रविन्द्र चौबे ने आज बेमेतरा प्रवास के दौरान कलेक्टोरेट सभाकक्ष में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक लेकर विभागीय योजनाओं एवं कार्यक्रमों की समीक्षा की। कृषि मंत्री ने कहा कि शासन के मंशा की अनुरूप विकास कार्याे को समय सीमा में पूरा कराए ताकि शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं का समुचित लाभ जनता को मिल सके। कृषि मंत्री श्री चौबे ने बैठक में कहा कि अधिकारी नियमित रूप से फील्ड का दौरा करें इससे व्यवस्था में सुधार आएगा। उन्होंने जिले में सड़को के निर्माण एवं रख-रखाव, स्वास्थ्य व्यवस्था को बेहतर बनाने के साथ ही शासकीय योजनाओं एवं कार्यक्रमों का लाभ जन सामान्य को मुहैया कराने के निर्देश दिये। बैठक में विधायक बेमेतरा श्री आशीष कुमार छाबड़ा, नवागढ़-गुरूदयाल सिंह बंजारे, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कविता साहू, कलेक्टर श्रीमती शिखा राजपूत तिवारी, पुलिस अधीक्षक प्रशांत ठाकुर और जिला पंचायत के सीईओे प्रकाश कुमार सर्वे सहित सभी विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।
कृषि मंत्री ने बैठक में प्रदेश सरकार की सुराजी गांव योजना नरवा, गरूवा, घुरूवा अउ बाड़ी योजना की समीक्षा करते हुए पशुधन के संरक्षण एवं संवर्धन, वर्षा जल के संचयन तथा जैविक खेती को बढ़ावा देने के साथ ही यह योजना ग्रामीणों के स्वावलंबन एवं ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत बनेंगी। उन्होंने इस योजना को जिले में प्रभावी ढंग से लागू करने के निर्देश दिए। कृषि मंत्री ने कहा कि राजस्व कार्यालयों में लंबित नामंातरण, बंटवारा, सीमंाकन तथा बंदोबस्त त्रुटि सुधार के प्रकरणों का समय पर निराकरण सुनिश्चित हो। कृषि मंत्री ने राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे बसे गांवों में गौठान निर्माण करने के निर्देश दिए।
कलेक्टर ने बताया कि जिले के सभी चार विकासखण्डों- नवागढ़, साजा, बेरला एवं बेमेतरा के राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) के किनारे बसे गावों में गौठान निर्माण करने के लिए प्राक्कलन तैयार करने के निर्देश जनपद पंचायत के सीईओ को पिछली बैठक में दिए है। जिले में ऐसे गांवों की संख्या 24 है। इनमें बेरला वि.खं. के 04 साजा के 06 बेमेतरा एवं नवागढ़ के 07-07 ग्राम शामिल है। सड़क पर पालतू पशुओं के विचरण करने से हमेशा दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। इस कारण एनएच के किनारे बसे गावों में गौठान निर्माण कराया जाए जहां उनके चारा एवं पानी की सुविधा रहेगी। कृषि मंत्री ने विभागवार काम-काज की समीक्षा के दौरान स्पष्ट रूप से कहा कि शासकीय काम-काज में पादर्शिता बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने जनप्रतिधिनियों की अनुशंसा एवं उनके सुझावों पर भी नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। कलेक्टर श्रीमती राजपूत तिवारी ने विभागीय अधिकारियों से कहा कि वे आपसी समन्वय स्थापित करते हुए शासन की विभिन्न योजनाओं औरं कार्यक्रमों का बेहतर क्रियान्वयन करते हुए बेमेतरा जिले को प्रदेश के अव्वल जिले की श्रेणी में लाने की दिशा में कार्य करें।
कृषि मंत्री ने हितग्राही मूलक योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ आमजनता तक पहुचाने के निर्देश दिए। बैठक के दौरान उन्होने किशोरी बालिका योजना, सुकन्या समृद्वि योजना, नोनी सुरक्षा योजना, के अलावा समाज कल्याण विभाग के अंतर्गत पेंशन योजनाओं के वितरण की जानकारी ली। मंत्री ने जिले में कुपोषण की दर में कमी आने पर महिला एवं बाल विकास विभाग को बधाई दी। कृषि मंत्री ने प्राकृत संसाधनों के संरक्षण के लिए पानी को रोकने तालाब निर्माण, नाली निर्माण, वृक्षारोपण आदि कार्याे की समीक्षा की गई। इसके अलावा भू-नाडेप के अंतर्गत घुरूवा निर्माण कर कम्पोस्ट खाद के लिए घुरूवा का निर्माण किया गया है इस संबंध मंे जानकारी ली। उप संचालक कृषि ने बताया कि कृषि विभाग के मैदानी अमले द्वारा किसानों को कम्पोस्ट खाद तैयार करने की विधि के संबंध में प्रचार प्रसार किया गया है इसके काफी उत्साह जनक परिणाम आए है। जिला पंचायत के सी.ई.ओ. श्री सर्वे ने शासन की सुराजी गांव योजना नरवा गरूवा घुरूवा अउ बाड़ी के अंतर्गत किए गए कार्याे के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जिले में 66 गौठान का निर्माण कराया गया है। इसमें प्रत्येक ब्लाक में एक-एक मॉडल गौठान भी शामिल है।

Post a Comment

 
Top