राजगढ़। राजगढ़ नगर सहित आसपास के क्षेत्रों में रविवार से मंशा महादेव व्रत का आरंभ हो गया है। इस व्रत को लेकर शिव मन्दिरों मेें बड़ी संख्या में श्रृ़द्धालुओं का हुजूम देखने को मिला है। मंशा महादेव व्रत श्रावण मास शुक्ल चतुर्थी से आंरभ होकर कार्तिक शुक्ल चतुर्थी तक पूर्ण होगा। इस बीच जितने सोमवार आएगे उसमें भगवान शिव का पूजन व कथा का श्रृ़द्धालुओं का श्रवण करेगे। राजगढ़ व आसपास के क्षेत्रों में लगभग मंशा महादेव व्रत को 10 हजार श्रृद्धालुओ द्वारा किया जाता है।  मंशा महादेव व्रत को लेकर नगर के पांच धाम एक मुकाम श्री माताजी मन्दिर सहित नगर के अनेक शिव मन्दिरों अलसुबह से श्रृ़द्धालुओं द्वारा पूजा की थाली लेकर शिव की आराधना में जुट गए।

मंशा महादेव व्रत से होती है मन इच्छाओ की पूर्ति- 
जन-जन की आस्था का केन्द्र पाॅच धाम एक मुकाम अतिप्राचीन श्री माताजी मन्दिर पर परम पूज्य गुरुदेव 1008 श्री मुरलीधरजी भारद्वाज के पूण्याशीष एवं परम पूज्य गुरुदेव श्री मुरारीलालजी भारद्वाज, परम पूज्य गुरुदेव श्री नारायणजी भारद्वाज के आर्शीवाद से तथा ज्योतिषाचार्य श्री पुरुषोत्तमजी भारद्वाज की निश्रा में अनेक वर्षो से मंशा महादेव व्रत श्रृद्धालुओ को कराया जाता है। ज्योतिषाचार्य श्री भारद्वाज ने बताया की  अनादिकाल में देवताओ ने मंशा महादेव व्रत किया था।  देवताओ ने इच्छा पूरी करने के लिए इस व्रत को किया था ओर देवताओ की इच्छा भी पूर्ण हुई थी। व्रत को करने से भगवान भोलनाथ मन की इच्छा पूरी कर रहे है।

25 वर्षो से मनावर से आकर ही व्रत कर रही राजकुमारी जोहर -
अति प्राचीन माताजी मन्दिर पर 25 वर्षो से मनावर से आकर राजकुमारी जोहर मंशा महादेव व्रत को कर रही है। जोहर का कहना है कि भगवान शिव के प्रति अपार श्रद्धा है ओर मेरी सारे काम परिपूर्ण हुए है। सभी को इस व्रत को करना चाहिए।

Post a Comment

 
Top