भोपाल। प्रदेश के प्राइवेट और सरकारी कालेजों में इस साल प्रत्यक्ष प्रणाली से छात्र संघ चुनाव कराए जाएंगे। यह बात उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने बुधवार को राजधानी में मीडिया से चर्चा के दौरान कही। जब पटवारी से मीडिया ने पूछा कि चुनाव कब होंगे तो उनका कहना था कि चुनाव उच्च शिक्षा विभाग की ओर से जारी अकादमिक कैलेंडर के अनुसार ही आयोजित कराए जाएंगे। इस हिसाब से चुनाव सितंबर या अक्टूबर में आयोजित कराए जा सकते हैं। प्रत्यक्ष प्रणाली से चुनाव के तहत छात्र अपने कक्षा प्रतिनिधि से लेकर कालेज अध्यक्ष का चुनाव करेंगे। जबकि अप्रत्यक्ष प्रणाली में छात्र कक्षा प्रतिनिधि को चुनते थे जिसके बाद कक्षा प्रतिनिधि कालेज अध्यक्ष समेत अन्य पदाधिकारियों का चुनाव करते थे। पटवारी ने कहा कि कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में घोषणा कि थी कि वो सरकार में आने पर प्रत्यक्ष प्रणाली से छात्र संघ चुनाव आयोजित कराएगी।

2003 से बंद है प्रत्यक्ष प्रणाली से छात्र संघ चुनाव
पटवारी ने कहा कि मजबूत लोकतंत्र की स्थापना के लिए प्रत्यक्ष प्रणाली से चुनाव कराना आवश्‍यक है। इस दौरान सरकार इस बात का भी विशेष ध्यान रखेगी कि चुनाव के कारण ला एंड आर्डर की स्थिति न बिगड़े और न छात्रों की पढ़ाई प्रभावित हो। प्रदेश के करीब 1300 कालेजों और पारंपरिक कोर्स संचालित करने वाली सभी यूनिवर्सिटी में शांतिपूर्ण चुनाव कराना हमारी जिम्मेदारी रहेगी। प्रदेश में 2003 से भाजपा सरकार के आने के बाद से ही प्रत्यक्ष प्रणाली से छात्र संघ चुनाव कराना बंद कर दिया गया था। साल 2006 में उज्जैन प्रो सभरवाल की छात्र संघ चुनाव में हुई मौत के बाद अप्रत्यक्ष प्रणाली से भी चुनाव कराना बंद कर दिया गया था। इसके बाद साल 2011 और 2017 में अप्रत्यक्ष प्रणाली से छात्र संघ चुनाव कराए गए थे।

Post a comment

 
Top