भोपाल। वन मंत्री श्री उमंग सिंघार ने मिन्टो हॉल में मुख्य वन संरक्षकों की समीक्षा बैठक में लघु वनोपज संघ को प्रदेश के प्रत्येक जिले में औषधीय पौधों की खेती को बढ़ावा देने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि औषधीय उपज से होने वाली आमदनी का लाभ ग्रामीणों को ही मिले। श्री सिंघार ने कहा कि उपज विक्रय में संघ ग्रामीणों का व्यापारियों से अनुबंध कराने में सहायता करे। वन मंत्री ने वनों के विकास में महत्वपूर्ण घटक संयुक्त वन समितियों को और अधिक सुदृढ़ और सक्रिय करने के निर्देश दिये। उन्होंने वन संरक्षकों से वन की अवैध कटाई, रेत खनन, शिकार आदि को रोकने के लिये सेटेलाइट तकनीक का उपयोग करने को कहा है। बैठक में प्रदेश के सभी क्षेत्रीय और अनुसंधान विस्तार मुख्य वन संरक्षक और राष्ट्रीय उद्यानों के क्षेत्र संचालक मौजूद थे। वन मंत्री ने सभी वन वृत्त, इकाई और राष्ट्रीय उद्यान की गतिविधियों की समीक्षा की। वन मंत्री ने वन विभाग के अधिकारियों के साथ राज्य-स्तरीय समीक्षा बैठकों का सिलसिला शुरू किया है। वन मंत्री ने गत 30 जुलाई को भोपाल में जिला वन अधिकारियों की राज्य-स्तरीय समीक्षा बैठक ली थी।

Post a Comment

 
Top