जगदीश चौधरी, खिलेडी। खिलेडी फूलेडी से हायर सेकेंडरी के लिये दसाई पडने जाने वालीछात्राओ को किराये की वजह से परेशान होना पड रहा हैं।  निर्धन परिवार की लडकीयों को 6 दिन की पढाई के बाद रविवार की छुटटी को पढाई की बजाय मजबुरी में बस किराये के लिये मजदुरी करने जाना पडता है। क्योकि खिलेडी से दसाई के शासकिय विद्यालय के लिये निजी बस में सफर करना पडता है। और निजी बस वाले छात्राओ से यात्रियो की तरह कभी पुरा किराया तो कभी आधा किराया वसुलते है।  बावजूद सिट पर बैठना नसीब नही होता है खडे खडे सफर करना पडता है। साथ ही कई बार दसाई में निर्धारित बस स्टाप से पहले बस से उतार दिया जाता है । खिलेडी व फूलेडी से सभी वर्गाे की छात्राऐ 11वी व 12 की पढाई के लिये दसाई के कन्या हायर सेकंडरी विद्यालय जाती है। इनमें अधिकांश बालीकाऐ फूलेडी से मजदुर वर्ग की लडकीया है जिन्हे किराये की समस्या का सामना करना पडता है। आर्थिक स्थिती कमजोर होने के कारण छात्राऐ सोमवार से शनिवार तक विद्यालय पढने जाती है जबकी बस के किराये का डर रविवार को उन्हे मजदुरी पर भेजने के लिये मजबुर कर देता है।

निःशुल्क नही बिठाने पर छात्राओ ने रोकी बस -
बस के रोजाना के किराये की परेशानी से तंग आकर बुधवार को छात्राओ ने एकत्रीत होकर खिलेडी में टूलाईन रोड पर सुबह 10 बजे बस के सामने खडी होकर बस को रोका व निशुल्क ले जाने की बात कही । इधर छात्राओ की समस्या का पता चलने पर गांव के उपसरपंच छगनलाल पाटीदार व सुनिल पाटीदार ने अधिकारीयो से चर्चा कर समाधान करने की बात कही।  बस के परिचालक व मालिक राठौर ने बताया की खिलेडी से दसाई का किराया प्रति यात्रि दस रूपये है लेकिन छात्राओ के लिये प्रति छात्रा तीन रूपये बोल दिया है बावजुद निशुल्क की मांग कर रहे है मंहगाई की वजह से काफी नुकसान का सामना करना पडता है। शासन के नियमो में यदि कोई नियम होगा तो पालन करेंगे।
बस किराये के लिये रविवार को करती है मजदुरी -
कक्षा 11 में पढने वाली फूलेडी की अजजा वर्ग की छात्राओ शिवानी दिलीप, पायल मांगीलाल, ममता छगनलाल व भावना प्रभुलाल ने बताया की डेढ किलोमिटर पेदल चलकर खिलेडी पहुंचती है। यहां से बस में सफर करती है प्रतिदिन किराया लगता है। प्रतिदिन के किराये से घरवाले परेशान होते है और हमे हर हाल में आगे पढना है इसलीये हम सोमवार से शनिवार तक स्कुल में पढाई करती है व बस के किराये के लिये रविवार को गांव में मजदुरी के लिये जाने वाले दल में जाकर हम भी मजदुरी करती है। जो मजदुरी मिलती है उसमें किराये का पैसा बचाने के साथ आवश्यक सामग्री खरीद लेती है।  खिलेडी की पूजा चौहान ने बताया की दो वर्ष पूर्व पिताजी का निधन हो गया घर में दादाजी है, कमाने वाला कोई नही है । पढना चाहती हूँ लेकिन किराये की समस्या नकारात्मक भाव पैदा कर रही है।

कल पंचायत व पालक देंगे एसडीएम को ज्ञापन -
छात्राओ के निशुल्क सफर किये जाने के मामले में पंचायत ने भी अपना सहयोग प्रदान करते हुवे पालको के साथ ज्ञापन देने की बात कही है। उपसरपंच छगनलाल पाटीदार ने बताया की पंचायत के लेटर पेड पर समस्या को लिखित रूप में छात्राओ के हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन पालको के साथ बदनावर में एसडीएम नेहा साहु को सोंपकर छात्राओ की समस्या हल किये जाने की मांग करेंगे।

जो भी मदद होगी कंरूगी -
उक्त मामले में जब एसडीएम नेहा साहु से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा की मामला दिखवाती हुं। ऐजुकेशन आफीसर से बात करके जो भी नियम में होगा हर संभव मदद करूंगी । जरूरी हुवा तो नियमानुसार छात्राओ के लिये पास बनाकर दिये जाऐगे।

Post a Comment

 
Top