विनोद सिर्वी, धुलेट। क्षेत्र में हो रही बारिश आम जिवन अस्तव्यस्त हो गया है। गुरुवार को सुबह से ही तेज बारिश की वजह से इंदौर अहमदाबाद नेशनल हाईवे 47 पर गाव धुलेट में नेमालाल हामड के खेत के पास बनी जर्जर सकरी पुलिया पर पानी ऊपर से होकर जाने लगा। सुबह करीब 5 बजे से 11 बजे तक जाम लगा रहा सैकड़ों वाहनों के साथ हजारों यात्री परेशान हुए।करीब 4 किलोमीटर लंबा जाम पुलिया पर पानी होने की वजह से लगा। प्रत्यक्षदर्शी संतोष पवार धुलेट ने बताया कि रात में अत्यधिक बारिश की वजह से पुल के ऊपर करीब 4-5 फुट पानी होकर गुजरने लगा जिससे सुबह 5 बजे से ट्रैफिक जाम हो गया जिससे पुलिया के दोनों और दो 2 से 3 किलोमीटर वाहनों की लंबी लाइन लग गई। करीब 11 बजे आवागमन चालू हुआ। ग्रामीणों की मदद से दोनों साइड के वाहन व्यवस्था संभाल कर छोड़े गए। सकरे रास्ते की वजह से वाहन आमने सामने आ जाने की वजह से भी जाम हटने में बड़ी समस्या हुई।इंदौर से झाबुआ तक चलने वाले शासकीय बस के ड्राइवर उदित शर्मा ने बताया कि सकरे रास्तों व जर्जर पुलिया की वजह से बहुत बार यहां जाम लग जाता है। और घंटों जाम खुलने का इंतजार करना पड़ता है। जब भी बस लेकर निकलते हैं। तो यही विचार मन में आता है। कि कहीं धुलेट  में जाम न लग गया हो।
क्यों लगता है हर बार जाम -
इंदौर अहमदाबाद नेशनल हाईवे खरमोर पक्षी अभ्यारण की वजह से धुलेट और दत्तीगांव के बीच चार लाइन रोड  नहीं बना है। पुराने सकरे रास्ते पर बड़े वाहनों का निकलना मुश्किल हो जाता है। इस नेशनल हाईवे पर वाहनों की संख्या पहले की अपेक्षा अब बढ़ चुकी है। धुलेट में बने जर्जर पुलिया पर करीब 6 इंच तक गहरे गड्ढे हो गए हैं। सकरी पुलिया की वजह से दो वाहन साथ में पुलिया पार नहीं कर पाते पुलिया पर आते ही वाहनों की स्पीड धीमी हो जाती है। एक साथ दो वाहन नहीं निकल पाते। जिससे पुलिया के आसपास वाहनों की संख्या बढ़ जाती है। और वाहन आमने सामने आ जाने पर ट्रैफिक जाम हो जाता है। बारिश में सकरे रास्ते पर बड़े वाहन गुजरते हैं तो  वाहन रोड की साइड से  स्लिप रोड से नीचे उतर जाते हैं। जिनको निकालने में क्रेन लगाने पर भी रोड जाम हो जाता है। आए दिन इस तरह की समस्याएं बनी रहती है।
इस अधूरे पड़े फोर लाइन के बारे में झाबुआ-रतलाम सांसद गुमानसिंह डामोर सांसद भी लोकसभा में कुछ दिन पहले मुद्दा उठा चुके हैं।

Post a Comment

 
Top