भोपाल। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) के 38वें स्थापना दिवस समारोह में कहा कि ग्रामीण विकास और किसान कल्याण में नाबार्ड की महत्वपूर्ण भूमिका है। ग्रामीणों और किसानों के जीवन-स्तर में सुधार तभी संभव है, जब वे खेती के साथ पशु-पालन, मछली-पालन, मुर्गी-पालन और अन्य लघु एवं कुटीर उद्योगों को भी अपनाएँ। राज्यपाल ने बालाघाट महिला स्व-सहायता समूह का उल्लेख करते हुए कहा कि इस समूह ने अपने प्रयासों से लगभग 4 करोड़ की बचत कर अपना बैंक खोला है। इसे मिसाल मानकर नाबार्ड को ग्रामीण इलाकों में काम कर रहे महिला स्व-सहायता समूहों को प्रोत्साहित करना चाहिये। उन्होंने कहा कि जब तक नारी शक्ति देश के विकास से नहीं जुड़ती, तब तक विकास अधूरा है। राज्यपाल ने महिलाओं के सामाजिक, शैक्षणिक विकास के साथ उन्हें बेहतर स्वास्थ्य सेवाएँ सुलभ कराने पर जोर दिया।

ई-शक्ति परियोजना से जुड़े 2 लाख किसान
कृषि मंत्री श्री सचिन यादव ने बताया कि नाबार्ड द्वारा ग्रामीण अंचल में शून्य प्रतिशत ब्याज पर तीन लाख रूपये तक ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है। जहाँ बैंक नहीं हैं, वहाँ पोस्टल बैंक के माध्यम से वित्तीय समावेश का कार्य किया जा रहा है। ई-शक्ति परियोजना द्वारा प्रदेश के सभी किसानों, स्व-सहायता समूहों का डाटा पोर्टल पर लाया जा रहा है। ई-शक्ति परियोजना से अभी तक 19 हजार किसान समूहों के 2 लाख सदस्य जुड़ चुके हैं।

नाबार्ड ने उपलब्ध कराई 20 हजार 800 करोड़ वित्तीय सहायता
नाबार्ड के मुख्य महाप्रबंधक श्री एस.के. बंसल ने बताया कि 12 जुलाई 1982 से स्थापित यह बैंक आज अपना 38वाँ स्थापना दिवस कृषक उत्पादक संगठन के रूप में मना रहा है। पिछले 38 वर्षों में नाबार्ड ने किसानों और ग्रामीणों को सशक्त बनाने के लिये निरंतर कार्य किया है। नाबार्ड का लक्ष्य छोटे और मझौले किसानों को संगठित कर उनका आर्थिक स्तर बढ़ाना है। नाबार्ड ने किसानों को खेती के साथ अन्य गतिविधियों से जोड़ने का प्रयास शुरू कर दिया है। उन्होंने बताया कि नाबार्ड ने किसानों को वर्ष 2018-19 में 20 हजार 800 करोड़ की वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाई है। इसे आगामी वर्ष में और विस्तारित किया जायेगा।

महिला स्व-सहायता समूह सम्मानित
राज्यपाल श्रीमती पटेल ने नाबार्ड द्वारा पोषित स्व-सहायता समूह के माध्यम से उल्लेखनीय कार्य करने वाले तामिया (छिंदवाड़ा) के फलम सम्पदा उत्पादक संघ, पांढुर्ना (छिंदवाड़ा) की नमन ऑरेंज फार्मा कंपनी पंधाना (खंडवा) की पशुपालन कंपनी, हरदा की गुप्तेशवर स्वावलंबी किसान फार्मा कंपनी, होशंगाबाद की कृषक उत्सव फार्मा कंपनी के साथ श्रीमती राधा जोधा-देवास और श्रीमती गुलनाज, उज्जैन को स्मृति-चिन्ह और प्रशस्ति देकर सम्मानित किया। राज्यपाल ने वित्त पोषण के लिये बैंक ऑफ बड़ोदा और मध्यप्रदेश क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक को भी प्रशस्ति-पत्र तथा स्मृति-चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया। श्रीमती पटेल ने स्कूली बच्चों को पुस्तकें एवं फल वितरित किये। स्थापना दिवस समारोह में अपर मुख्य सचिव पशुपालन श्री मनोज श्रीवास्तव, आर.बी.आई. के रीजनल डायरेक्टर श्री विवेक अग्रवाल, एस.बी. आई के महाप्रबंधक श्री कौशिक सिन्हा एवं बी.एस. एन.एल के महाप्रबंधक श्री महेश शुक्ला उपस्थित थे।

Post a Comment

 
Top