भोपाल। जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने 'विश्व प्रकृति संरक्षण एवं हेपिटाइटिस' दिवस कार्यक्रम में कहा कि पृथ्वी पर प्राकृतिक संतुलन कायम रखने के लिये जरूरी है कि प्रत्येक व्यक्ति पौधा-रोपण करे और वृक्ष बनने तक उसके संरक्षण की जिम्मेदारी निभाये। उन्होंने आयुर्वेद का महत्व बताते हुए कहाकि जड़ी-बूटियों में सभी मर्जों का इलाज छुपा है। उन्होंने आगाह किया कि समय रहते वृक्ष संरक्षण पर ध्यान नहीं दिया गया, तो पंचभूत से बना मानव शरीर और संसार दोनों नष्ट हो जायेंगे। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी संस्थान और डाबर इंडिया लिमिटेड द्वारा आयोजित कार्यक्रम में पार्षद श्रीमती संतोष कसाना, पूर्व प्रांताध्यक्ष मध्यप्रदेश आयुर्वैदिक अधिकारी संघ श्री सैयद अनवर, डॉ. सुधीर पांडे और शहर के गणमान्य नागरिक मौजूद थे। मंत्री श्री शर्मा ने नेहरू नगर चौराहे पर नीम का पौधा लगाकर कमला नगर तक पौधा-रोपण का शुभारंभ किया। उन्होंने कॉलोनीवासियों से आग्रह किया कि अपने क्षेत्र को हरा-भरा बनाये रखने के लिये स्व-प्रेरणा से पौधा-रोपण कार्यक्रम में भागीदारी सुनिश्चित करें। क्षेत्रीय पार्षद श्रीमती संतोष कंसाना, गणमान्य नागरिकों और कॉलोनीवासियों ने पौधा-रोपण में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।

Post a Comment

 
Top