भोपाल। लोकसभा के लिए चुने गए भाजपा विधायक गुमानसिंह डामोर ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। अब भारतीय जनता पार्टी के विधानसभा में 108 सदस्य रह जाएंगे। जबकि मुख्यमंत्री कमलनाथ के छिंदवाड़ा से विधानसभा चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस की सदस्य संख्या 114 हो गई है। कांग्रेस को एक निर्दलीय के सरकार में शामिल होने की वजह से बहुमत को लेकर फिलहाल कोई दिक्कत नहीं है। कांग्रेस सरकार को बहुजन समाज पार्टी के दो, समाजवादी पार्टी के एक विधायक सहित अन्य तीन निर्दलीय ठाकुर सुरेंद्र सिंह शेरा, केदार डाबर और विक्रम सिंह राणा का भी समर्थन है। झाबुआ से विधानसभा चुनाव जीतकर विधायक बने गुमान सिंह डामोर ने मंगलवार की शाम को विधानसभा सचिवालय पहुंचकर अपना इस्तीफा दिया। विधानसभा अध्यक्ष नर्मदाप्रसाद प्रजापति मंगलवार देर शाम को ही तिरुपति से लौटे और उनके समक्ष डामोर के इस्तीफे को पेश किया गया। प्रजापति ने इस्तीफे को स्वीकृत किया। अब गुरुवार को विधानसभा सचिवालय द्वारा डामोर के इस्तीफे की अधिसूचना जारी की जाएगी। गौरतलब है कि डामोर मप्र सरकार के जल संसाधन विभाग में प्रमुख अभियंता थे और पहली बार ही विधानसभा चुनाव लड़ते हुए राजनीति कॅरियर की शुरुआत की थी। पार्टी ने उन्हें विधायक रहते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के खिलाफ लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी बनाया और पांच महीने में ही डामोर ने दूसरा चुनाव जीत लिया। उनके नाम यह भी एक अनोखा रिकॉर्ड बना है। उन्होंने भूरिया परिवार में पिता और पुत्र दोनों को लगातार चुनाव में हराया।

Post a Comment

 
Top