झाबुआ। राष्ट्रीय पक्षी मोर झाबुआ जिले के पेटलावद तहसील के अंतर्गत आने वाले ग्राम झकनावदा में बड़ी संख्या में है। लेकिन इस और शासन-प्रशासन का कोई ध्यान आकर्षित नहीं हो रहा है यहां आए दिन मोर दाना पानी के लिए सड़क किनारे आ जाते हैं जिससे यह जंगली जानवरों के शिकार बन जाते हैं ऐसा ही रविवार को श्रेणिक मनोहर लाल राठौड़ के घर के पास देखने को मिला राष्ट्रीय पक्षी मोर दाना पानी के लिए सड़क किनारे आया तो उसे एक कुत्ते ने झपट लिया जिससे मोर जान बचाकर उड़ा तो सही लेकिन वह एक मकान के चद्दर पर जा बैठा जहां से दोबारा उड़ न सका यह देख सैनिक राठौर ने राष्ट्रीय पक्षी मोर को संभाला तो देखा कि मोर चलने में सक्षम होकर पूरी तरह घायल अवस्था में था जिसके बाद उन्होंने यह मनीष कुमट को दी जिस पर मनीष कुमट ने वेटनरी चिकित्सक आवासीय को खबर की एवं मोर को चिकित्सालय ले जाकर उसका इलाज कर इंजेक्शन लगवाया जिसके बाद समाजसेवी हरिराम परिहार संजय व्यास चंद्रशेखर राठौर शुभम कोटडिया ने मोर को सुरक्षित हाल में दाना पानी रख कर रखा गया है। जिसके  कुमट ने झाबुआ डीएफओ  मोहनलाल हरित से बात की गई तो उन्होंने बताया कि झकनावदा की मोर अभ्यारण केंद्र की मांग तेजी से उठने के कारण हमने झकनावदा में जमीन का मुआयना किया है साथ ही हमारे उच्च अधिकारियों को इस  हेतु प्रस्ताव बनाकर आगे भेज दिया है जैसे ही आगे से जो भी आदेश आता है हम उस पर कार्य करेंगे।

Post a Comment

 
Top