दसाई। मध्य प्रदेश मे विगत वर्षाें मे हुवे व्यापम घोटाले का व्यापक असर हुआ था। छात्रों की जिंदगी के साथ खिलवाड करने वाले इस घोटाले ने कई छात्रों का जीवन ही बर्बाद कर दिया। लेकिन इसके बााद भी कुछ छात्रों के होसलें पस्त नही हुवे तथा अपनी उडान को पंख देने के लिये विदेश का रूख कर अपना लोहा मनवा लेने की ठान ली। इसमे समीपस्थ ग्राम पदमपुरा के छात्र विकास मारू की योग्यता के बाद भी जब एमबीबीएस के लिये चयन नहीं हो सका तो छात्र ने रूस की ओर अपना रूख कर 2013 मे अपनी योग्यता के बल पर रूस की शासकीय स्मोलेन्सक एकेडमी मे प्रवेश लिया।  जहां पर 2014 मे होने वाले रशियन ओलम्पियाड मे तीन लेवल पार कर रशियन लेंग्वेज मे दूसरा स्थान प्राप्त किया। वहीं एमबीबीएस के छः वर्षीय पाठयक्रम सफलता पूर्वक पास करने पर  शुक्रवार को ऐकेडमी के वाइस चांसलर ने डिग्री प्रदान की। वहीं डाॅ.विकास मारू ने ही ऐकेडमी से डिग्री प्राप्त करने वाले समस्त 100 छात्रो को चिकित्सा व्यवसाय मे प्रवेश के लिये रसियन लेंग्वेज मे शपथ दिलाई। इस अवसर पर रूस की स्मोलेन्स्क एकेडमी के सेंकडो छात्र एवं पदाधिकारी उपस्थित थें। उल्लेखनीय है कि छात्र विकास मारू के पिता शासकीय कन्या उमावि दसाई मे प्रधानाध्यापक क पद पर कार्यरत है।

Post a Comment

 
Top