विराज प्रजापत, सारंगी। सारंगी स्टेट हाईवे से सारंगी चौराहे तक रोड का कार्य 1 वर्ष से अधूरा पड़ा है। पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों व ठेकेदार की मिलीभगत से राहगीरों को आए दिन परेशानी का सामना करना पढ़ रहा है। इस रोड पर बहुत सी दुर्घटना हो चुकी है। अगर पीडब्ल्यूडी विभाग के पास इस रोड के कार्य के लिए राशि नहीं थी तो ठेकेदार द्वारा कार्य क्यों करवाया गया।  ठेकेदार ने तो अपना काम शुरू कर दिया था पर घटिया कार्य की शिकायत पत्रकारों और ग्रामीणों ने की थी। पीडब्ल्यूडी विभाग के अधिकारियों ने शिकायत पर यह सजा दी की रोड का कार्य आज तक अधूरा पड़ा है। आम नागरिकों का कहना है कि इस कार्य के लिए राशि शासन से अभी तक प्राप्त नहीं हुई है। अब सवाल यह उठता है की अगर पीडब्ल्यूडी के एसडीओ व इंजीनियर ने ठेकेदार से काम क्यों करवाया गया।  बात यह है कि अगर गांव वाले इस रोड की गुणवत्ता की शिकायत नही करते तो शायद यह रोड कबका बनके तैयार हो जाता तथा गांव वालो एवं आम राहगिरों को इसकी सजा नही मिलती।
ग्रामीणों का कसूर बस इतना ही है कि घटिया मैटेरियल उपयोग करने की शिकायत पीडब्ल्यूडी विभाग  के आला अधिकारि को की थी। इसलिए अधिकारियों ने रोड का कार्य बंद करवा दिया। इधर परेशानी उठा रहे हैं लोगों का कहना है की अगर शिकायत नहीं करते तो ठेकेदार कब का रोड का कार्य शायद पूरा करके चला जाता और आम जनता को इस परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता। सूत्रों के अनुसार इस रोड की राशि पीडब्ल्यूडी विभाग के पास आ चुकी है और पीडब्ल्यूडी विभाग रोड का कार्य इसलिए नहीं करवाना चाह रही है की यदि कार्य चालू किया तो ग्रामीण  इस रोड की गुणवत्ता को लेकर  फिर से शिकायत करेंगे। शायद इसी लिए पीडब्ल्यूडी विभाग के आला अधिकारी इस रोड का कार्य चालू नहीं होने देना चाह रहे हैं। देखना यह है कि जनप्रतिनिधि इस रोड का कार्य शुरू करवाते है या आला अफ़सरो की तरह आश्वाशन देते रहेंगे।
अगर रोड का कार्य 15 जून तक चालू नहीं किया जाता है तो शायद यह काम नवंबर तक खींच जाएगा क्योंकि 15 जून के बाद डामर रोड के कार्य बारिश के चलते हैं नहीं किए जा सकते हैं। अब ग्रामीणों का कहना हे की सांसद और विधायक  अधिकारियों को  निर्देश दे एवं जल्दी से कार्य शुरू हो। यदि कार्य जल्द शुरू नहीं किया गया तो सारंगी की जनता भूख हड़ताल पर बैठने को तैयारी कर रही है। 

Post a Comment

 
Top