विनोद सिर्वी, धुलेट। गांव धुलेट में मंगलवार 7 मई 2019 वैशाख सुदी तीज अक्षय तृतीया पर फसलों से संबंधित भविष्यवाणी हुई। भविष्यवाणी श्री योगमाया मन्दिर में हुई। मन्दिर के पूजारी (पंडा) भुराजी जमादारी ने बताया कि भविष्यवाणी पृत्येक वर्ष अक्षय तृतीया पर होती है ओर यह भविष्यवाणी कइ वर्षों से होती आ रही है अक्षय तृतीया के दिन दुर दराज के गांवों के लोग यहां आते हैं। तथा सुबह से ही मन्दिर में आकर पुजा करने आते हैं।भविष्यवाणी में पांच लोग दिन में शुभ मुहूर्त में भुराजी जमादारी, रुपालाल चोयल, रविंद्र सोलंकी, कमलेश वर्फा, अर्जुन हामड गांव में ही स्थित कालका माताजी के मन्दिर के पिछे बनी बावडी से नहा कर योगमाया मन्दिर आते हैं। ओर करीब 20-25 किग्रा गेहूं की ढेरी पर पानी से भरी मटकी को रखते हैं तथा पुजा अर्चना माताजी के जय घोष के साथ भविष्यवाणी प्रारंभ होती है। भविष्यवाणी में पांच लोग गेहूं की ढेरी के आसपास बेठते है। फिर फसलों का नाम बोलते हुए पाचो लोग अपने दाएं हाथ कनिष्ठ उंगली मटकी को स्पर्श करते है। यदि मटकी उंगली के स्पर्श करते ही घुमने लगती है तो उस फसल की पैदावार अच्छी मानी जाती है। भविष्यवाणी मे बताया कि आषाढ़ माह के प्रारंभ  (18-30 जुन के बिच) से फसलों की बुवाई होगी तथा आषाढ़ माह के अंत में (10-15  जुलाई के बीच) यत्र-तत्र तो कही अतिवृष्टि होगी। श्रावण मास(17 जुलाई से 15 अगस्त) में  अधिक वर्षा होगी  तथा भादो महीने में प्रारंभ में कम बारिश होगी प्रारंभ  (16अगस्त से 22 अगस्त )  तथा फसलों मैं मक्का, मुंगफली, सोयाबीन, कपास, धान, गोबी, गेहूं, चना की उपज अच्छी होगी। ज्वार, उड़द, टमाटर, फुल, की उपज कम होगी। गांव व आसपास के क्षेत्र को अग्नि से कोई खतरा नहीं होगा व गेहूं में गेरुआ रोग व  फसलों पर पाले का प्रकोप कम रहेगा। देश का राजा भी वही रहेगा। ग्रामीणों ने बताया कि प्रत्येक वर्ष भविष्यवाणी के अनुसार के अनुसार ही फसलों की बुवाई करते हैं। पिछले वर्ष भी माताजी की भविष्यवाणी में बताया था कि सोयाबीन का अच्छा उत्पादन होगा उत्पादन भी अच्छा हुआ पर भाव नहीं मिले व भविष्यवाणी के अनुसार ही फसलों का चयन करते हैं। भविष्यवाणी के अंत में महा आरती का आयोजन हुआ महा आरती के बाद प्रसादी वितरण की गई बड़ी संख्या में ग्रामीणों व आसपास के गांव के लोग ने भविष्यवाणी में भाग लिया।

Post a Comment

 
Top