सरदारपुर। माननीय न्यायालय न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, श्री अभिजीत सिंह वास्कले, सरदारपुर द्वारा दिनांक 30/05/2019 को निर्णय पारित करते हुए, आरोपी गणेश पिता गलिया भील 28 साल, कालु पिता गलिया 21 साल, खुमान पिता गलिया 32 वर्ष, भीमा पिता गलिया उम्र 30 साल जाति मचार सभी निवासी जोलाना हनुमान फलिया सरदारपुर को धारा 325/34 भादवि 1-1 वर्ष का सश्रम कारावास, 200-200 रूपये एवं पृथक से आरोपी गणेश और कालु को धारा 452 भादवि में 1-1 वर्ष का सश्रम कारावास, 200-200 रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किये गये।
अभियोजन अधिकारी श्री बीएस बिलवाल ने बताया कि घटना दिनांक 02.06.13 को शाम 6.00 बजे फरियादी रामा अपने घर पर था कि गांव के कालु, गणेश आये और बोले कि तुने हमारी जमीन में मकान बनाने के लिए कॉलम क्यों खोदकर बना रहे हो कहकर मॉं-बहन की नंगी-नंगी गालिया देने लगे, तब रामा ने गालिया देने से मना किया तो गणेश ने लकड़ी से और कालु ने गैती के हत्थे से मारपीट की थी, जो गाल और पीठ पर चोट लगी,आरोपी गणेश और कालु घर के अन्दर घुसकर फरियादी रामा को खीचकर बाहर निकालकर लाये तब वहां पर आरोपी भीमा और खुमान भी आ गये, उन्होने भी रामा के साथ लट्ठ से मारपीट की जो कि पीठ और पुट्ठे और दोनो हाथों पर चोट आई थी। रामा का बीच-बचाव उसके लडके दिनेश, कमला तथा धन्ना ने किया था। चारों आरोपीयों ने भागते-भागते रामा को जान से मारने की धमकी दी थी। रामा ने थाना सरदारपुर पर रिपोर्ट लेखबद्ध करवाई थी, जिस पर से रिपोर्ट दर्ज की गई एवं विवेचना के दौरान साक्षीयों के कथन लेखबद्ध कर आरोपीगण के विरूद्ध अभियोग पत्र प्रस्तुत किया गया। माननीय न्यायालय में विचारण के दौरान अभियोजन अधिकारी द्वारा महत्वपपूर्ण साक्षीयों की साक्ष्य करवाई जाकर बहस की गई। विचारण के दौरान माननीय न्यायालय ने अभियोजन द्वारा प्रस्तुत साक्ष्य को प्रमाणित पाते हुए आरोपी गणेश, कालु, खुमान, भीमा निवासी जोलाना हनुमान फलिया सरदारपुर को धारा 325/34 भादवि 1-1 वर्ष का सश्रम कारावास, 200-200 रूपये एवं पृथक से आरोपी गणेश और कालु को धारा 452 भादवि. में 1-1 वर्ष का सश्रम कारावास, 200-200 रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किये गये। आरोपीगण से क्षतिपूर्ति स्वरूप राशि फरियादी रामा को 1200 रूपये  दिये जाने का आदेश भी किया गया। प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी श्री पीएल मेड़ा द्वारा की गई।

Post a Comment

 
Top