नई दिल्ली। लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की प्रचंड जीत के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत ने एक बेहद महत्वपूर्ण बयान दिया है। भागवत ने संघ के एक कार्यक्रम में कहा कि राम का काम करना है और राम का काम होकर रहेगा। संघ प्रमुख ने कहा कि इसकी निगरानी भी करनी होगी। हालांकि मोहन भागवत ने अपने इस बयान का मतलब साफ नहीं किया, लेकिन माना जा रहा है कि वह अयोध्या में राम मंदिर को लेकर बोल रहे थे।  उदयपुर में चल रहे संघ शिक्षा वर्ग (द्वितीय वर्ष) प्रशिक्षण के दौरान अपने संबोधन में भागवत ने कहा, 'राम का काम करना है और राम का काम होकर रहेगा। राम का काम करना है तो अपना काम करना है, अपना काम खुद करेंगे तो ठीक होता है। सौंप देते हैं तो किसी को निगरानी करनी होती है।' भागवत से पहले मोरारी बापू ने कहा था कि राम का काम सबको करना है। उसी में अपनी बात जोड़ते हुए भागवत ने कहा कि राम का काम होकर रहेगा। उदयपुर में चल रहे इस कार्यक्रम में भागवत 4 दिन तक रहे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, संघ के इस शिविर में करीब 300 स्वयंसेवक भाग ले रहे हैं। जहां तक मंदिर का प्रश्न है, तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम मंदिर मामले में कह चुके हैं कि जब तक सुप्रीम कोर्ट का फैसला नहीं आ जाता है, तब तक किसी अन्य विकल्प पर विचार नहीं किया जाएगा। हालांकि RSS और VHP ने मांग की थी कि केंद्र सरकार संसद में अध्यादेश लाकर राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करे।

Post a Comment

 
Top