राजगढ़। नगर सहित क्षेत्र की हजारो की आबादी के बिच आकस्मिक आगजनी होने पर राजगढ़ नगर परिषद के पास फायर ब्रिगेड की सुविधा नही है। आज बुधवार को नगर के सबसे व्यस्ततम ओल्ड हाईवे पर पुराना बस स्टेंड के समीप दोपहर लगभग 2ः30 बजे विद्युत ट्रांसफार्मर में अचानक आग लगने से अफरा-तफरी मच गई। पुराना बस स्टैंड क्षेत्र के दुकानदार एवं राहगीर सहम गए एवं इधर-उधर भागने लगे। आग लगते ही विद्युत ट्रांसफार्मर में एक धमाका हुआ। जिसके बाद दुकानदार अपनी दुकाने छोड़ भाग गए। वही ओल्ड हाईवे से गुजरने वाले वाहन भी जहा के जहा खड़े हो गए। घटना स्थल से महज 100 मिटर की दुरी पर ही नगर परिषद है। लेकिन नगर परिषद में आग बुझाने का कोई साधन नही होने से सरदारपुर नगर परिषद की फायर ब्रिगेड बुलाना पड़ी।
मीटर से लगी आग - विद्युत ट्रांसफार्मर में आग लगते ही लोगो ने तत्काल विद्युत विभाग एवं पुलिस को सुचना दी। जानकारी मिलते ही विद्युत विभाग ने विद्युत सप्लाय बंद कर दिया। वही मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मी ने ट्राफीक व्यवस्था संभाली। फायर वाहन के पहुचने से पूर्व ही आसपास के लोगो ने अपने घरों से पानी लाकर आग बुझाई। जिसके बाद सरदारपुर नगर परिषद का फायर वाहन मौके पर पहुंचा। विद्युत विभाग के कनिष्ठ यंत्री श्याम रायकवार ने बताया की पुराना बस स्टेंड कॉर्नर पर डॉ. अनोखीलाल जैन के घर के बाहर लगे ट्रांसफार्मर के निचे लगे मीटर केबल में लगी आग की लपटों से ट्रांसफार्मर के उपर ढुले हुए आईल ने आग पकड़ ली। जिससे विद्युत केबले जली है। लगभग 1 घंटे तक विद्युत सप्लाई बंद कर रिपेयरिंग किया गया।
7 माह से नही है फायर ब्रिगेड - नगर परिषद राजगढ़ की फायर ब्रिगेड लगभग 7 माह से नही है। क्षेत्र में कोई भी आगजनी की घटना घटीत होती है तो सरदारपुर का फायर वाहन बुलाना पड़ता है। दरअसल 5 अगस्त 2018 को ग्राम दत्तीगांव में एक मकान में लगी आग बुझाने जा रही फायर ब्रिगेड दुर्घटना का शिकार हो गई थी। जिसके बाद से नगर परिषद ने फायर वाहन की सुध नही ली है। दुर्घटना ग्रस्त फायर ब्रिगेड राजगढ़ के मेला मैदान स्थित नगर परिषद के वाहन पार्किग में धुल खा रही है। नगर एवं आसपास में कई बार आगजनी की घटना होने के बाद भी परिषद द्वारा ना तो फायर वाहन को रिपेयर करवाया गया और ना ही उसकी सुध ली गई।

डुडा को लिख चुके है पत्र - नगर परिषद सीएओ कीर्ति चौहान ने बताया की मेने फायर वाहन के बारे में धार डुडा को पत्र लिखकर अवगत करवाया है। आचार संहिता के चलते हम टेंडर नही निकाल सकते है। में आज ही कलेक्टर महोदय से इस बारे में चर्चा करूंगी।

नियमो का हवाला देकर झाड़ रहें पल्ला - जब भी नगर परिषद से फायर वाहन को लेकर चर्चा की जाती है तो वें नियमो का हवाला देकर इस मामले से पल्ला झाड़ लेते है। वही जानकार बताते है कि ऐसे मामलों एवं जनहित को देखते हुए नगर परिषद अपने स्वविवेक से स्वीकृति दर पर कार्य करवा सकता है।

Post a Comment

  1. राजगढ़ में सारे इलेक्ट्रॉनिक केबल्स बहुत पुरानी हो गई है कृपया इसे बदले !

    ReplyDelete

 
Top