भोपाल। अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान में हर माह किसी न किसी चेंज लीडर के व्याख्यान होंगे। व्याख्यान माला 'ट्रांसफार्मेटिव चेंज, सस्टेनेबल आउटकम्स' शीर्षक से होगी। संस्थान के महानिदेशक श्री आर. परशुराम ने यह जानकारी पहले व्याख्यान 'इश्यूज एण्ड चैलेंजेज इन इंप्लीमेंटिंग स्वच्छ भारत मिशन: द इंदौर एक्सपीरियंस' में दी। डायरेक्टर स्वच्छ भारत मिशन श्री मनीष सिंह ने व्याख्यान दिया। श्री परशुराम ने कहा कि किसी भी सार्वजनिक कार्य में लोगों की सोच और मानसिकता बदलना बड़ी चुनौती होती है। इसमें जो सफल होता है, वही चेंज लीडर होता है। उन्होंने कहा कि परिणामों के साथ ही प्रक्रिया भी महत्वपूर्ण होती है। श्री परशुराम ने बताया कि संस्थान विभिन्न विभागों की पब्लिक पॉलिसी के विश्लेषण के साथ ही विभिन्न क्षेत्रों में कार्य कर रहा है। चेंज लीडर के अनुभवों से हमें इन कार्यों में मदद मिलेगी।

सभी के सहयोग से इंदौर बना देश का सबसे स्वच्छ शहर
संचालक स्वच्छ भारत मिशन एवं पूर्व नगर निगम आयुक्त इन्दौर श्री मनीष सिंह ने कहा कि जन-प्रतिनिधियों, पुलिस प्रशासन और मीडिया सहित समाज के सभी वर्गों के सहयोग से इंदौर देश का पहले नम्बर का स्वच्छ शहर बना। उन्होंने कहा कि 2015 में स्थितियाँ बिल्कुल प्रतिकूल थीं। महापौर और सभी जन-प्रतिनिधियों ने शहर को बिन फ्री, लिटर फ्री और डस्ट फ्री बनाने का संकल्प लिया। संकल्प को पूरा करने के लिए सुनियोजित कार्य किये गये। नगर निगम में गाड़ी और उपकरणों की खरीदी की गई। समर्पित कर्मचारियों को प्रोत्साहन और लापरवाह कर्मचारियों को दंडित किया गया।

एक लाख रुपये तक स्पाट फाइन
श्री सिंह ने बताया कि डोर-टू-डोर कचरे का कलेक्शन करवाकर उसका सेग्रीगेशन शुरू करवाया गया। सड़क पर कचरा फेंकने वालों से जुर्माना वसूला गया। सौ रूपये से लेकर एक लाख रुपये तक का स्पाट फाइन लगाया गया। बड़े-बड़े होटलों के विरुद्ध कार्यवाही की गई। नगर निगम का स्वच्छता एप बनाया गया। हेल्पलाइन-311 में शिकायत मिलने पर त्वरित कार्यवाही सुनिश्चित की गई। इससे नागरिकों का विश्वास नगर निगम के प्रति बढ़ा और वे आगे आकर सहयोग करने लगे। सफाई मित्रों और उनके परिजन का इलाज नि:शुल्क करवाया गया। ड्राइवरों को सम्मानित किया गया। मैकेनाइज्‍ड रोड स्वीपिंग शुरू की गई। जोन वार जीपीएस मानीटरिंग की गई । शहर में बायो-मेथनेसन प्लांट, आर्गेनिक वेस्ट कर्न्वटर, प्लास्टिक वेस्ट प्रोसेसिंग यूनिट और प्लास्टिक टू डीजल प्लांट लगाये गए। पुराने कचरा संग्रह स्थल पर पार्क विकसित किये। सभी स्कूलों में स्वच्छता समिति बनायी गई। कान्ह और सरस्वती नदी की सफाई करवायी। श्री सिंह ने कहा कि वे स्वयं प्रतिदिन सुबह 5 बजे शहर का भ्रमण करते थे। उन्होंने फिल्म के माध्यम से भी किेये गये कार्यों की जानकारी दी। श्री सिंह ने श्रोताओं के प्रश्नों के उत्तर भी दिये। संस्थान के सलाहकार श्री गिरीश शर्मा ने संचालन किया। सलाहकार श्री एम़.एम. उपाध्याय और श्री त्यागी भी उपस्थित थे।

Post a Comment

 
Top