भोपाल। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने राजभवन में समर कैम्प का शुभारम्भ करते हुए बच्चों से कहा कि जीवन में सफलता के लिए साहस और संवेदनशीलता जरूरी है। उन्होंने कहा कि संगीत, नाटक, खेलकूद, विज्ञान के प्रयोग आदि से नई सोच और संस्कार मिलते हैं। राज्यपाल ने कहा कि दुनिया बहुत विशाल और ज्ञान का भंडार है। इसकी जितनी जानकारी प्राप्त की जाए, कम है। उन्होंने कहा कि कैम्प से बच्चों को भावी जीवन की दिशा चुनने में मदद मिलेगी। कैम्प में राजभवन के कर्मचारियों के बच्चों के साथ कमला नेहरू हायर सेकेण्ड्री स्कूल, कुम्हारपुरा स्थित शासकीय माध्यमिक स्कूल और रोशनपुरा स्थित प्राथमिक स्कूल के लगभग 150 बच्चे शामिल हुए। समर कैम्प लगभग डेढ़ माह तक चलेगा। इसमें बच्चे संगीत, नाटक, नृत्य, पेंटिंग के अलावा चित्रकला और ज्ञान-विज्ञान विषयक प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे। बच्चों को जवाहर बाल भवन, मध्यप्रदेश नाट्य विद्यालय एवं प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान परिषद के प्रशिक्षकों द्वारा प्रशिक्षण दिया जाएगा। कैम्प में गायत्री शक्तिपीठ द्वारा बच्चों को योग और संस्कारों की शिक्षा भी दी जाएगी। साथ ही ज्वेलरी मेकिंग भी सिखाई जाएगी। कैम्प में पर्वतारोही श्री भगवान सिंह कुशवाहा विशेष रूप से उपस्थित थे। श्री सिंह ने 19 मई, 2016 को एवरेस्ट पर चढ़ाई में मध्यप्रदेश का प्रतिनिधित्व किया था। बच्चों ने शिविर का शुभारम्भ, संचालन और आभार प्रदर्शन किया। राज्यपाल ने चित्रकला सामग्री भेंट की।

Post a Comment

 
Top