नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में रविवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए। सेना के एक अधिकरी ने इसकी जानकारी दी। सैन्य अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा बलों को दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के हिन्दसीतापुर इलाके में आतंकवादियों के छिपे होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद इलाके की घेराबंदी की गई और तलाशी अभियान चलाया गया। उन्होंने बताया कि तलाशी अभियान के दौरान आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी कर दी, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हुई और इसमें दो आतंकवादी मारे गए। अधिकारी ने बताया कि मुठभेड़ स्थल से हथियार और अन्य सामग्री बरामद की गई है।  वहीं, इस मुठभेड़ से इतर आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट ने भारत में नई "शाखा" स्थापित करने का दावा किया है।  ISIS की ओर से अपनी तरह की यह पहली घोषणा 10 मई को आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच झड़पों के बाद की गई है। खूंखार आतंकी समूह आईएस की समाचार एजेंसी 'अमाक' के अनुसार नई शाखा का अरबी नाम 'विलायाह ऑफ हिंद" (भारतीय प्रांत) रखा गया है। हालांकि, जम्मू-कश्मीर के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने इस दावे को खारिज कर दिया है। इस्लामिक चरमपंथियों पर नजर रखने वाले एसआईटीई इंटेल ग्रुप की निदेशक रीता काट्ज ने कहा, "आईएसआईएस ने अमशिपुरा में भारतीय बलों के साथ झड़पों का दावा करते हुए अपना नया "हिंद प्रांत" घोषित किया है।" उन्होंने ट्वीट किया, "बेशक, एक ऐसे क्षेत्र में एक प्रांत की स्थापना, जहां इसके वास्तविक नियंत्रण जैसा कुछ नहीं है बेतुका है, लेकिन इसे हल्के में नहीं लिया जाना चाहिये।" आईएसआईएस ने शाखा के भौगोलिक नियंत्रण पर विस्तार से जानकारी नहीं दी। समूह द्वारा नयी शाखा की घोषणा को पश्चिम एशिया में अपनी जमीन खिसकने के बाद वैश्विक स्तर अपने प्रभाव को बरकरार रखने की रणनीति के तौर पर देखा जा रहा है। इस तरह की रणनीति का जिक्र पिछले दिनों आईएसआईएस प्रमुख अबू बक्र अल-बगदादी ने किया था।आईएस ने मेसेजिंग ऐप ‘टेलीग्राम’ के जरिए 10 मई को संक्षिप्त बयान में कहा था कि मशीनगनों से लैस इस्लामिक स्टेट के आतंकवादी कश्मीर के शोपियां जिले के अमशिपुरा गांव में भारतीय सुरक्षा बलों के साथ भिड़ गए थे, जिसमें उनमें से कई मारे गए या घायल हुए।  हालांकि, बयान में यह उल्लेख नहीं किया गया कि कथित झड़प कब हुई थी। 10 मई की मीडिया की खबरों में कहा गया था कि कश्मीर के शोपियां जिले में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया। बता दें कि अप्रैल में इराक और सीरिया से आईएस का खलीफा राज खत्म हो गया था, जहां एक वक्त हजारों मील के इलाके में उसका शासन चलता था। इसके बाद बौखलाए आईएस ने आत्मघाती हमलों को तेज कर दिया। हाल ही में उसने श्रीलंका में कई जगह बम धमाकों को अंजाम दिया, जिसमें 253 लोग मारे गए थे।

Post a Comment

 
Top