राजगढ़। जमीन विवाद के चलते भतीजे ने अपने पुत्र के साथ मिलकर अपने ही काका पर जानलेवा हमला कर दिया, पहले तो भतीजे ने जमकर मारपीट की। इसके बाद काका का अपहरण करके अपने साथ ले गया, सांवेर क्षेत्र में एक जंगल में ले जाकर बुजूर्ग के साथ मारपीट कर सिर पत्थरों से कुचल दिया। इससे बुजूर्ग की मौत हो गई, घटना के बाद भतीजा व उसका पुत्र मौके से फरार हो गए। इंदौर जिले के क्षिप्रा थाना अंतर्गत सांवेर रोड़ पर लाष मिलने की सूचना के बाद पुलिस हरकत में आई व परिजनों से संपर्क करके शव सौंपा गया। इधर मारपीट में दो अन्य महिलाएं भी गंभीर रूप से घायल हैं, जिनका उपचार धार जिला अस्पताल में चल रहा है। वहीं पुलिस ने मामले में हत्या सहित हमले को लेकर प्रकरण दर्ज किया है। इधर जांच के दौरान पुलिस ने दो में से एक आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया है।
पूरा मामला राजगढ़ थाना अंतर्गत ग्राम महापुरा का हैं, पिछले लंबे समय से जमीन के हिस्से की बात को लेकर एक ही परिवार के लोगों ने विवाद चल रहा था। विवाद इतना बढ़ गया कि पिता व पुत्र ने मिलकर एक बुजूर्ग की हत्या ही कर दी। ग्राम महापुरा से करीब एक किलो मीटर की दूरी पर गत दिनों सोमवार-मंगलवार की मध्य रात्रि के समय करीब 2 बजे मृत्तक गंगाराम पिता सोमला अपने खेत पर बनी झोपड़ी के बाहर सो रहा था। तभी आरोपी अमरसिंह, बबलु आए। आरोपियों ने पहले गंगाराम के साथ घर के बाहर ही मारपीट की, इसी दौरान चिल्लाने की आवाज को सुनकर समीप में ही सो रही दो महिलाएं जागी। जिन्हें देखकर आरोपियों ने उनपर भी हमला कर दिया, दोनों महिलाओं को सिर में गंभीर चोट आई है। इसके बाद अमरसिंह ने पुत्र के साथ मिलकर गंगाराम का अपहरण कर वाहन में बिठाकर अपने साथ सांवेर रोड़ क्षेत्र में ले गया। जहां पर आरोपियों ने गंगाराम के साथ पुनः मारपीट कर हत्या कर दी। आरोपियों ने पहचान नहीं हो इसके लिए चेहरे पर पत्थर से हमला किया था। इधर परिजन गंगाराम की तलाश करते हुए राजगढ़ थाने पर पहुंचे, जहां पर गंगाराम की लाश सांवेर क्षेत्र के रोड़ पर होने की सूचना प्राप्त हुई।

आधार कार्ड से हुई मृत्तक की पहचान -
क्षिप्रा थाना अंतर्गत सांवेर रोड़ पर सड़क से कुछ दूरी पर लाश देखी गई, इसके बाद स्थानिय पुलिस मौके पर पहुंची। मृत्तक की तलाशी लेने पर जेब में से आधार कार्ड मिला। जिसके आधार पर क्षिप्रा पुलिस ने राजगढ़ पुलिस व परिजनों से संपर्क किया। इसके बाद परिजन राजगढ़ पुलिस के साथ घटनास्थल पर पहुंचे व लाश की पहचान कर शव को पीएम के लिए भिजवाया गया। इधर परिवार के लोग घायल दोनों महिलाओं को सरदारपुर से धार जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, यहां पर प्राथमिक उपचार के बाद दोनों को भर्ती कर लिया गया। अस्पताल में थावरीबाई पति गंगाराम व सुकबाई पति नहारसिंह को भर्ती किया गया है। परिजनों ने चर्चा में बताया कि रविवार को ही गांव में आकर अमरसिंह ने धमकी दी थी, कि तुझे पता भी नहीं चलेगा ओर तुझे उठाकर ले जाएंगे। इसके एक दिन बाद ही सोमवार व मंगलवार की मध्यरात्रि के दिन आरोपी गांव आए व मारपीट कर गंगाराम को अपने साथ वाहन में बिठाकर ले गए थे।

गांव जाने का बोलकर लेकर आए थे वाहन -
आरोपी पहले ही अपने साथ एक चार पहिया वाहन परिचित का लेकर आए थे, आरोपी अमरसिंह अपने परिचित से गांव जाने का बोलकर वाहन लेकर आया व पुत्र को लेकर गंगाराम के खेत पर पहुंचा था। यहां पर गंगाराम पर एकाएक अमरसिंह ने हमला कर दिया, इससे गंगाराम बेहोश हो गया था। जिसे बेहोशी की हालात में लेकर आरोपी अल्टो वाहन में डालकर सांवेर रोड़ पहुंचे थे। जहां पर जिंदा देखकर गंगाराम के साथ मारपीट कर पत्थर से सिर कुचल दिया था।

रिश्तेदार के घर से पकड़ा आरोपी को -
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मारपीट कर गंगाराम को अपने साथ ले जाने की बात को लेकर पुलिस ने मारपीट की धाराओं में प्रकरण दर्ज किया था। इधर क्षिप्रा पुलिस ने शव का पीएम करवा था, जहां से मर्ग डायरी प्राप्त होने पर राजगढ़ पुलिस ने मामले में आरोपी अमरसिंह व बबलु उर्फ विक्रम के खिलाफ धारा 302 व 201 में प्रकरण दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू की, इधर राजगढ़ पुलिस को सूचना मिली कि आरोपी बबलु उर्फ विक्रम क्षेत्र के दत्तीगांव के समीप करनावट गांव में रिश्तेदार के घर छुपा हुआ हैं। ऐसे में पुलिस की टीम पहुंची व आरोपी को गिरफ्तार करके थाने पर लाया गया, जहां पर पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म कबूल किया। इधर गुरूवार को दोपहर के समय पुलिस आरोपी बबलु को अपने साथ लाश मिली स्थान पर भी लेकर गई थी।

इनका कहना हैं -
गंगाराम के साथ खेत पर बनी झोपड़ी के बाहर मारपीट कर दोनों आरोपी सांवेर रोड़ लेकर गए थे, जहां पर गंगाराम की हत्या कर दी गई। स्थानिय पुलिस की सूचना पर राजगढ़ पुलिस मौके पर पहुंची थी, मामले में पहले से दर्ज प्रकरण में धाराएं आरोपी अमरसिंह व बबलु के खिलाफ बढ़ाई गई है। आरोपी बबलु को दत्तीगांव के समीप एक गांव से गिरफ्तार किया गया है।
- ब्रजेश मिश्रा, टीआई, राजगढ़

Post a Comment

 
Top