नई दिल्ली। अफ्सपा की समीक्षा करने के चुनावी वादे को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को उनके वादे को राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करना बताया और विपक्षी पार्टी के घोषणापत्र को पाकिस्तान की साजिशों का दस्तावेज करार दिया। अगले हफ्ते होने वाले मतदान से पहले यहां एक रैली को संबोधित करते हुए, उन्होंने कांग्रेस पर देश को अस्थिर करने और अपने सैनिकों के मनोबल को गिराने की साजिश रचने का आरोप लगाया। मोदी ने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ साथ आये विपक्षी दलों और उनके सहयोगी दलों को ‘‘महा मिलावट’’ करार दिया है और कहा कि अगर वे सत्ता में आए तो नक्सली गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने राजद्रोह कानून खत्म करने के कांग्रेस के वादे को लेकर उसकी जमकर आलोचना की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि भाजपा नीत सरकार के पिछले पांच साल संप्रग शासन की “गलतियां सुधारने” में बीत गए।  यहां एक चुनावी रैली में मोदी ने कहा कि उन्होंने पांच साल में सभी काम (2014 में जिनका वादा किया गया) पूरे करने का कभी दावा नहीं किया। हालांकि उन्होंने कहा कि कई जरूरी काम पूरे किए गए। मोदी ने कहा, “मैं पिछले पांच साल में मिले आपके आशीर्वाद एवं विश्वास के लिए आभार व्यक्त करने और अगले पांच सालों के लिए आपका आशीर्वाद मांगने यहां आया हूं।” मोदी ने पाकिस्तान में आतंकवादी शिविरों पर कार्रवाई को याद करते हुए कहा, “लोग बालाकोट हवाई हमले को भूले नहीं हैं, भले ही कई लोग कह रहे हों कि वे भूल गए हैं क्योंकि कार्रवाई हुए महीनों बीत गए हैं।” मोदी ने कांग्रेस के चुनाव घोषणापत्र को ‘‘बनावटी दस्तावेज’’ करार दिया जो “झूठ से भरा’’ हुआ है। राजद्रोह कानून या धारा 124ए हटाने के कांग्रेस के वादे पर हमला करते हुए मोदी ने सवाल किया, “कांग्रेस देश के साथ है या देशद्रोहियों के साथ?” उन्होंने रैली में आए लोगों से पूछा, “क्या आप उन्हें मौका देंगे जो राजद्रोह कानून को खत्म करना चाहते हैं?” महाराष्ट्र में इस महीने होने वाले लोकसभा चुनावों से पहले मोदी की यह दूसरी चुनावी रैली है। पहली रैली एक अप्रैल को वर्धा में हुई थी।

Post a Comment

 
Top