भोपाल। भोपाल से भाजपा प्रत्याशी बनने के बाद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर हर दिन अपने बयानों से चर्चा में बनी हुई हैं। शनिवार को साध्वी प्रज्ञा ने एक और बड़ा और विवादास्पद बयान दिया है। अयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाने को लेकर उन्होंने विशेष बातचीत में दावा किया, 'विवादित ढांचे को मैं तोड़ने गई थी। ढांचे पर चढ़कर उसे तोड़ा।" साध्वी यहीं नहीं स्र्कीं, उन्होंने कहा, 'ढांचा तोड़ने का मुझे भयंकर गर्व है। ईश्वर ने मुझे अवसर और शक्ति दी थी, इसलिए मैंने यह काम कर दिया। मैंने देश का कलंक मिटाया था।'
1991 में अयोध्या का विवादित ढांचा गिराए जाने को लेकर साध्वी प्रज्ञा का यह बयान महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि भाजपा के सभी नेता सीधे तौर पर विवादित ढांचे को तोड़े जाने को लेकर कुछ कहने से बचते रहे हैं। गौरतलब है कि एक दिन पहले ही मुंबई आतंकवादी हमले में शहीद हेमंत करकरे को लेकर साध्वी के बयान से देश की सियासत में भूचाल आ गया था, इसके बाद उन्हें माफी भी मांगनी पड़ी थी। विवादित ढांचा गिराने के बयान पर चुनाव आयोग ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को आचार संहिता उल्लंघन का दूसरा नोटिस दिया गया है।

जिन्होंने मुझे पीड़ा दी, उनसे माफी मंगवाएं
शहीद हेमंत करकरे पर दिए बयान को लेकर साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि मैं इस मामले में माफी मांग चुकी हूं, अब उन लोगों से भी माफी मंगवाई जाए, जिन्होंने मुझे 9 साल तक पीड़ा दी।

Post a Comment

 
Top