सुमित राठौड़, बामनिया। नगर सहित समूचे अंचल में आज श्री हनुमान जन्मोत्सव पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ मनाया गया । अलसुबह से ही मंदिरों में श्री राम के अनन्य भक्त  हनुमानजी के दर्शन और पूजन का सिलसिला जारी रहा । ऐसी मान्यता है कि चैत्र मास की पूर्णिमा को ही भगवान श्रीराम के परम भक्त हनुमान ने माता अंजनी के गर्भ से जन्म लिया। जगह-जगह विशेष पूजा-अर्चना , हवन हो रही है। लोगों ने व्रत रखे हैं। जगह-जगह भंडारे का भी आयोजन किया गया है, जिसमें लोगों को सब्जी, पूड़ी और खीर का प्रसाद खिलाया जा रहा है। रामायण की चौपायी ओर सुंदरकांड पाठ के स्वर अलसुबह चार बजे से ही शुरू हो चुके थे। पूरे दिन विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन हुआ । हनुमान मंदिरों पर जय हनुमान ज्ञान गुण सागर , जय हो अंजनी के लाल की सुनाई दे रही है। नगर के पेटलावद रोड स्थित खेडापति हनुमान मंदिर व रामपुरिया स्थिति श्री रामेश्वर धाम पंचमुखी हनुमान मंदिर स्थित मंदिर पर अल सुबह 4 बजे से धार्मिक आयोजन शुरू हो गया था। भगवान की प्रतिमाओं का भी विशेष श्रृंगार किया गया तो हवन, पूजन, सुंदरकांड के बाद प्रसादी वितरण हुई । पेटलावद रोड स्थित मंशापूर्ण खेडापति हनुमान मंदिर पर प्रातः 5.30 बजे हनुमान चालीसा का पाठ ततपश्चात प्रातः 8 बजे से खवासा के प्रसिद्ध मंडल द्वार रंगारंग सुंदरकांड पाठ का  आयोजन भी रखा गया। आरती का लाभ लेने हेतु भक्तों का तांता लगा रहा । पूरे दिन दर्शन के लिए श्री हनुमान भक्तों की भीड़ लगी रही। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने पधार कर दर्शन वंदन कर प्रशदी ग्रहण की।   खेड़ापति हनुमान मंदिर समिति बामनिया के तत्वावधान में यह शानदार आयोजन किया गया।
अमरगढ़ रोड स्थित श्री राम मंदिर से भव्य भगवा शोभायात्रा निकाली गई। जो कि श्री राम मंदिर से प्रारंभ होकर माताजी चोराहा होती हुई प्रिंस प्रशांत मार्ग से खेड़ा हनुमान मंदिर पर समाप्त हुई। शोभायात्रा में गाजे बाजे के साथ युवा केसरिया ध्वज लिए शोभायात्रा की शान बड़ा रहे थे। व पीछे महिलाएं एक जैसे चुनरी के वस्त्र धारण किये चल रही थी ।साथ मे  खुली गाड़ी में भगवान हनुमान जी की बड़ी तस्वीर से शोभायात्रा की शान बड़ा रही थी। साथ ही पंचमुखी हनुमान मंदिर श्री रामेश्वर धाम पर भी विशाल भण्डारा व प्रसादी वितरण किया गया। श्री हनुमान जन्मोत्सव के पावन पर्व पर श्री पंचमुखी हनुमानजी मंदिर रामपुरिया पर हनुमानजी भगवान श्री राम , भाई लक्ष्मण , माँ सीता का आकर्षक श्रंगार किया गया । पूरे मंदिर पर आर्कषक विधुत सजावट भी की गई। जो कि शाम ढलते बहुत मनोहारी लग रही थी। सुबह 11 बजे से भंडारा शुरू हुआ जो शाम तक चलता रहा। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की। शाम को सुन्दरकाण्ड का आयोजन किया गया। फिर भगवान की 108 दीपक से महाआरती की गई। बामनिया से रामपुरिया स्थित रामेश्वर धाम के लिए माताजी मंदिर चौराहे से  निशुल्क बस व्यवस्था भी की गई थी। शोभायात्रा के लिए पुलिस पूरी तरह मुस्तेदी से देख रेख करती रही । चौकी प्रभारी नरपत जमरा के साथ आरक्षक तेरसिह अखाड़िया व स्टाप ने शोभायात्रा के दौरान पूरी देख रेख की।

Post a Comment

 
Top