विराज प्रजापत, सारंगी। सुबह से ही महिलाओं की कतार मंदिरों में देखी गई। महिलाओं ने पीपल के वृक्ष की परिक्रमा कर वृक्ष पर डोरे भी बांधे। साथ ही मंदिर के बाहर घरों के प्रतीक बनाए तथा घर में सुख-समृद्वि कायम रहे इसकी कामना की।  इस दिन महिलाए व्रत रखने के साथ दशा माता की कथा का श्रवण भी करेंगी। इस पर्व के दौरान महिलाओं ने घरों के बाहर स्वस्तिक व हाथों के छापे भी लगाए।
दशा माता के पूजन के लिए श्रद्घालु महिलाएं पीपल के वृक्ष के पूजन के लिए बड़ी संख्या में तड़के से ही पहुंच गईं। दशा माता पूजन का सिलसिला दोपहर बाद तक जारी रहेगा।  पूजन स्थल पर महिलाएं नल-दमयंती की कथा सुनेंगी तथा गले में धागा भी प हनेंगी। पूजन के पश्चात महिलाओं अपने घरों पर हल्दी एवं कुमकुम के छापे भी लगाए। घर की साफ-सफाई करके घरेलू जरूरत के सामान के साथ-साथ झाडू इत्यादि भी खरीदेंगी।

Post a Comment

 
Top