भोपाल।  लोकसभा चुनाव से पहले राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने बीजेपी को नसीहत दी है कि वो भोपाल सीट को गंभीरता से ले। भोपाल-इंदौर सहित 14 सीटों पर बीजेपी अभी तक प्रत्याशियों के नाम का ऐलान नहीं कर सकी है। बीजेपी को टिकट तय करने में दिक्कत हो रही है। पार्टी को भोपाल में दिग्विजय सिंह के मुकाबले मज़बूत चेहरे की भी तलाश है। पार्टी उचित चेहरे की तलाश और ऐलान करने के मामले में उलझी हुई है। संघ की नाराज़गी इसी बात पर है। भोपाल के साथ छिंदवाड़ा, गुना और विदिशा में भी दमदार चेहरा न होने से संघ नाखुश है।
लोकसभा चुनाव के लिए बनाया गया भाजपा का डैमेज कंट्रोल प्लान कमज़ोर पड़ गया है। पार्टी ने चार लोगों की टीम बनायी थी, लेकिन वो ठीक से काम नहीं कर पा रही है। टिकट कटने और ना मिलने से नाराज़ मुरैना सांसद अनूप मिश्रा और पूर्व सांसद अशोक अर्गल के कांग्रेस में जाने की चर्चा है। लेकिन,भाजपा की डैमेज कंट्रोल टीम उन्हें मना नहीं पा रही है। असंतुष्टों और बाग़ियों के कारण विधानसभा चुनाव में पार्टी को खामियाज़ा भुगतना पड़ा था। बागियों और भितरघातियों से बीजेपी को काफी नुक़सान हुआ था। अब फिर से वही हालात पैदा हो गए हैं. टिकट ना मिलने से नेता बगावती तेवर अपनाए हुए हैं।

Post a Comment

 
Top