रायपुर। डीएमएफ की राशि का खेती के लिए हम बेहतर उपयोग करेंगे। इसकी मदद से खेती के लिए जरूरी अधोसंरचना निर्माण के साथ ही अन्य जरूरतों के लिए भी उपयोग किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने यह बात दुर्ग जिले के ग्राम खपरी में आयोजित छत्तीसगढ़ युवा प्रगतिशील किसान संघ के सम्मेलन के अवसर पर कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि धान के साथ ही किसानों को विभिन्न फसलों के उत्पादन के लिए भी प्रेरित किया जाएगा। शीतगृह एवं मंडी की किसान की जरूरतों के लिए कार्य किया जाएगा। श्री बघेल ने कहा कि प्रगतिशील किसान इस संबंध में बहुत अच्छा माध्यम बनते हैं। जब वे उद्यम करते हैं, नये प्रयोग करते हैं तो किसान उनसे उत्साहित होते हैं। हम खेती में आय बढ़ाने प्रतिबद्ध है। इसके लिए हम किसानों की हर संभव मदद करेंगे। छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी के संरक्षण की दिशा में कार्य किया जा रहा है। इसके माध्यम से किसान भाई तरक्की करेंगे। नालों के रिचार्ज किए जाने से भूमिगत जल को बचाने में बड़ी मदद मिलेगी। पानी की पर्याप्तता से किसानी के विकास के लिए अवसर पैदा होंगे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर एग्रो मेला आयोजन के लिए संघ को बधाई दी। उन्होंने कहा कि  कार्यशाला में किसानों को नई जानकारी मिली होगी और आपसी अनुभवों के आदान प्रदान से उनका अनुभव भी समृद्ध हुआ होगा। उन्होंने कहा कि खेती जैसे विषय में निरंतर अनुभवों का लाभ लेते हुए किसान बेहतर से बेहतर आर्थिक आय हासिल कर सकते हैं। हम ऐसे प्रयत्न कर रहे हैं जिससे प्रगतिशील किसानों को लाभ मिलेगा और उनके उत्पाद को बेहतर मूल्य मिले।

Post a Comment

 
Top