राजगढ़। दादा गुरुदेव की पाट परम्परा के अष्ठम पटधर प.पू. वर्तमान गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. के आज्ञानुवर्ती एवं प.पू. ज्योतिषाचार्य मुनिराज श्री जयप्रभविजयजी म.सा. के शिष्यरत्न मालवकेसरी मुनिराज श्री हितेशचन्द्रविजयजी म.सा. आदि ठाणा धार नगर में चातुर्मास के पश्चात् श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ में गुरुसप्तमी महामहोत्सव में अपनी निश्रा प्रदान करने के लिये कल सोमवार को प्रातः 11 बजे मंगल प्रवेश करेगें ।

Post a Comment

 
Top