राजगढ़। नगर मे वैसे तो पुरे वर्ष भर कई प्रकार के धार्मिक आयोजनो का सिलसिंला चलता रहता है। लेकीन वर्षो से नगर  मे 13 मंदिरो पर एक साथ होने वाली श्रीमद् भागवत कथा एक अपना एक अलग ही महत्व है। साथ ही इस धार्मिक आयोजन मे पिछले 29 वर्षो से नगर की धार्मिक अग्रणी संस्था श्री चारभुजा युवा मंच के द्वारा समापन अवसर पर निकलने वाली भव्य शोभायात्रा भी अपनी अलग छाप छोडती जा रही है। आज से 13 मंदिरों पर श्रीमद गवत कथा प्रारंभ हुई है अब नगर में 7 दिनों तक धर्म गंगा बहेगी। समापन अवसर पर हाथी घोडे के साथ डांडीया, ढोल, ताशा, बैड पार्टियो के साथ निकलने वाला शोभायात्रा जुलुस का हर किसी को इंतजार रहता है। इस वर्ष चारभुजा युवा मंच के आयोजन को 30 वर्ष है तो मंच के द्वारा भी शोभायात्रा जुलुस को लेकर खास तैयारी की गई है।
6 सितंबर को निकलेगा भव्य समापन जुलुस -  6 सितबंर को निकलने वाले शोभायात्रा जुलुस मे गुजराती लोक कलाकार विक्रम चौहान के साथ गायिका विरल तीरगर संगीतमय गीतो की प्रस्तुती देगी। गुजराती फिल्मो की हीरोईन रेखा रेवारी भी शोभायात्रा जुलुस मे शामिल होगी।  तो दिल्ली की आकेस्ट्रा पार्टि के साथ उज्जैन का प्रसिद्ध गणेश बैंड भी आयोजन का हिस्सा होगे। वही शोभायात्रा जुलुस मे आकर्षक का केन्द्र कलर चैनल पर प्रसारित होने वाले धारावाहिक शक्ति......की नायिका कामया पंजाबी के साथ जुनियर शशीकपुर होगे।
इन मंदिरों में ये आचार्य कर रहें है  कथा का वाचन -
नगर के श्री राधाकृष्ण राजपूत समाज मंदिर पर आचार्यश्री कृष्णकांत शर्मा (छड़ावद), पांच धाम एक मुकाम श्री माताजी मंदिर पर ज्योतिषाचार्य श्री पुरुषोत्तमजी भारद्वाज, श्रीचारभुजा मंदिर पर नरेंद्र शर्मा (किशनगढ़-राजस्थान), दलपुरा स्थित श्रीआईमाता मंदिर पर आचार्यश्री नरेंद्र शर्मा (अभिमन्यु), श्रीराधाकृष्ण गवली समाज मंदिर पर पं. लखन शर्मा, श्रीराम लौहार समाज मंदिर पं. सत्यनारायण जोशी (धार), सरकारी श्रीराम मंदिर पर शास्त्री सुनिल शर्मा (भानगढ़), श्रीराम सेन समाज मंदिर पर शास्त्री महेश शर्मा (राजोद), श्री लालबाई-फूलबाई मंदिर पर शास्त्री चंद्रप्रकाश दवे (लाबरिया), वार्ड क्रमांक 15 स्थित श्रीरामदेव चारण समाज मंदिर पर पं. उमाशंकर शर्मा (उज्जैन), मंडी प्रांगण स्थित श्री शिव मंदिर पं.अखिलेश शर्मा (कंजरोटा), मालीपुरा स्थित श्री शिव मंदिर पं.पवन शर्मा(राजगढ़) एवं दलपुरा स्थित श्रीराम मंदिर पं. विनोद शर्मा (बदवासा) के मुखारबिंद से कथा का वाचन हो रहा है।

Post a Comment

 
Top